सचेंडी गांव के पास रहने वाले किसान चन्द्रिका प्रसाद की 17 वर्षीय बेटी रेशमा बीए प्रथम वर्ष की छात्रा है। परिवार के मुताबिक सोमवार को रेशमा कमरे से उठकर किचन में चली गयी और केरोसीन का डिब्बा लेकर वापस कमरे में आयी और खुद को आग लगा ली। बेटी की चीख-पुकार सुनकर परिवार के लोग कमरे में पहुंचे तो देखा कि रेशमा बेहोश होकर जमीन पर झुलसे हालत में पड़ी हुई है।

घरवालों ने चादर से आग को बुझाते हुए नजदीक के सामुदायिक केन्द्र में लेकर पहंुचे। जहां चिकित्सको ने छात्रा की हालत गंभीर बताते हुए हैलट रेफर कर दिया। सूचना पर पहंुची पुलिस ने परिवार से पूछतांछ की लेकिन कोई कारण स्पष्ट नहीं हो सका। एसओ जयवीर यादव ने बताया कि मामला संदिग्ध है छात्रा के बयान के बाद ही मामले की सही जानकारी हो सकेगी।

विवेक सिहं कानपुर

LEAVE A REPLY