नेपाल में पिछले पांच महीनों से जारी मधेसी आंदोलन फिर हिंसक हो गया है. यहां के सीमावर्ती शहर रंगेली में मधेसियों और पुलिस के बीच हुई झड़प में एक महिला समेत तीन मधेसियों की मौत हो गई. खबरों के अनुसार इनकी मौत पुलिस की फायरिंग से हुई है. बताया जाता है कि रंगेली में नेपाल की सत्ताधारी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी ने एक कार्यक्रम का आयोजन किया था. इसमें नेपाल के प्रधानमंत्री को भी शामिल होना था. मधेसियों ने इस कार्यक्रम को न करने की चेतावनी दी थी. लेकिन फिर भी जब इसका आयोजन किया गया तो बड़ी संख्या में मधेसी इसका विरोध करने पहुंच गए. जब पुलिस ने इन्हें हटाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े तो मधेसियों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया. हंगामा बढ़ते देख पुलिस ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं. घटना के बाद नेपाल के प्रधानमंत्री ने अपना दौरा रद्द कर दिया.

उधर, भारत ने इस घटना पर चिंता जतायी है. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता विकास स्‍वरूप ने कहा है कि इस तरह की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए अब वहां की सरकार को जल्द ही इस समस्‍या का समाधान निकालना चाहिए. भारतीय मूल के मधेसी नेपाल में पिछले कई माह से नए संविधान में उचित प्रतिनिधित्व न मिलने को लेकर आंदोलन कर रहे हैं. इस आंदोलन में मरने वालों की संख्या 60 के पार पहुंच गयी है. इसमें ज्यादातर मौतें पुलिस की गोली से हुई हैं.

अब ईरान की यात्रा के बाद अमेरिका जाना आसान नहीं होगा

अब आतंकवाद से जूझ रहे देशों की यात्रा करने बाद अमेरिका जाना आसान नहीं होगा. अमेरिका ने आतंकवाद को शह देने वाले देशों की यात्रा कर चुके यात्रियों के लिए नये वीजा नियम बना दिए हैं. अमेरिका के गृह सुरक्षा विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि मार्च 2011 से ईरान, इराक, सूडान और सीरिया की यात्रा कर चुके यात्रियों को अब अमेरिका आने के लिए हर बार वीज़ा के लिए आवेदन करना होगा. प्रवक्ता के मुताबिक नए वीजा नियम उन देशों के यात्रियों पर भी लागू होंगे जिन्‍हें अमेरिकी वीज़ा से छूट मिली हुई है. इसके अलावा ईरान, इराक, सूडान और सीरियाई नागरिकता रखने वाले वे लोग जो वीज़ा छूट वाले देशों की भी नागरिकता रखते हैं, उन्‍हें भी अमेरिका आने से पहले पूर्ण वीज़ा के लिए हमेशा आवेदन करना पड़ेगा. अमेरिका ने 40 देशों के नागरिकों को बिना वीज़ा लिए अपने यहां आने की अनुमति दे रखी है.nepaal6-800x400

LEAVE A REPLY