विवेक सिहं (कानपुर जोनल हेड)
कानपुर। गणतंत्र दिवस से पहले एनआईए और एटीएस की टीमों ने यू.पी. के लखनऊ और कुशीनगर से दो संदिग्ध आईएस के आंतकियों को गिरफ्तार किया है। जबकि लखनऊ से 90 किलो मीटर कानपुर औद्योगिक शहर की ओर ऐसे लोगों की मौजूदगी होने के शक के आधार पर यह टीमें कानपुर पहंुच चुकी है। विशेष सूत्रों क माने तो खुफिया एजंेंसी ने जार्डन निवासी एक युवक को शहर से उठाया है और कई टीमें शहर के सवेंदनशील इलाकों के चप्पे-चप्पे पर अपनी निगरानी रखे हुए है।
पठानकोट के आंतकी हमले ने जहां देश को हिला कर रख दिया तो वहीं गणतंत्र
दिवस पर आईएस के आंतकियों ने विभिन्न शहरों को अपने निशाने पर रखते हुए
दुसरी बड़ी वारदात को अंजाम देने के जुगत में लग गये। इधर इस घटना हो जाने पर सरकार ने हाई अलर्ट जारी कर दिया। जिसके बाद एनआईए, एटीएस, व खुफिया विभाग की टीम सतर्क हो गयी और दिल्ली से लेकर उत्तर प्रदेश के शहरों में फैल गयी। टीम की इस सर्तकता से यूपी के लखनऊ व कुशीनगर से एटीएस टीम ने दो आईएस के संदिग्ध आंतकियांे को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की।

जबकि कानपुर शहर में बीते एक साल से फर्जी आईडी प्रूफ बनवाकर जार्डन का रहने वाला युवक अदनान को खुफिया टीम ने चकेरी पुलिस की मदद से गिरफ्तार किया है। टीम व पुलिस ने उस युवक अंजान जगह ले जाकर पूछतांछ कर रही है। जबकि गणतंत्र दिवस को देखते हुए खुफिया टीम, क्राइम ब्रांच एलआईयू टीम सतर्क हो गयी है। यह टीमें सवेंदनशील इलाकों में पहंुचकर सदिग्ध लोगों पर अपनी नजर रख रही है।

जीआरपी भी सतर्क जीआरपी इंस्पेक्टर नंद यादव ने बताया कि इस समय जिस तरह शहर का मौहाल बना हुआ है, उसको देखते हुए जीआरपी पुलिस सतर्कता बरते हुए हैं। लेकिन गणतंत्र दिवस को देखते हुए जीआरपी पुलिस और भी सतर्क हो गयी है जीआरपी इंस्पेक्टर ने बताया कि दुसरे शहर से आने-जाने वाली ट्रेन जो भी कानपुर
में ठहरती है। उस पर जीआरपी पुलिस अपनी नजर बनाये रखे हुए है।

LEAVE A REPLY