अभी तक नही हुई हत्या के आरोपितो  कि गिरप्तारी

(बुद्धेश्वर कुमार शुक्ल : कुचायकोट )

  • कोर्ट के आदेश के बाद दर्ज हुआ था थाने में मामला
  • भय के वतावरण में अपनी जिंदगी जीने को मजबूर है पीड़ित परिवार
  • चुनावी रंजिश में हुई थी पैथलोजी संचालक कि हत्या
  • साहब आखिर कबतक मिलगा न्याय

गोपालगंज / गोपालपुर : जिले के गोपालपुर थाने के तिवारी खरेया के रहने वाले जनार्दन तिवारी उर्फ रूद्र नारायण तिवारी उतरप्रदेश के सलेमगढ़, थाना तरेया सुजान जिला कुशीनगर में रहकर अपना पैथलोजी क्लिनिक को संचलित करने का कार्य करते थे , वही पर उनके लड़के और उनका परिवार भी रहता था , वह दिनाक 10-11-2015 को करीब साढ़े छ: बजे संध्या में घर आये अपने घरेलू कार्य को देखरेख करने के बाद अपने मजदूरों को मजदूरी दिए अपने घर के अगले काम के लिए बाते कर रहे थे कि इसी बिच मुदाहलम सदर वादी के दरवाजे पर आये उन्हें कहे कि पकरही में अष्टयाम हो रहा है आप वहा चलिए ,आपको विशिष्ठ अतिथि के रूप में रखा जाएगा , वो वहा जाना नही चाह रहे थे , लेकिन अभियुक्क्त उन्हें दबाव देकर वहा लेकर चले गए , वहा से देर रात तक घर नही वापस होने पर घरवाले समझे कि सलेमगढ़ चले गए होगे चुकी वादी के घर से सलेमगढ़ कि दुरी मात्र दस किलोमीटर है , उसी रात में वादी का भतीजा सलेमगढ़ के अपने डेरे से फोन किया कि पिताजी जी हत्या हो चुकी है , पुलिस उनके शव को पडरौना अस्पताल में ले गयी है इस सुचना पर मृतक के भाई शव को पोस्टमार्टम कराकर घर लाकर उनका अंतिम संस्कार कराया उसके बाद मृतक के भाई लगतार कई दिनों तक उतर प्रदेश और बिहार के थानों में केश दर्ज कराने के लिए चकर लगाते रहे लेकिन बिहार और उतरप्रदेश के चक्कर में मामला न तो उतरप्रदेश के थाने में दर्ज हुआ और नही बिहार में अंत में उन्हें कोर्ट का सहारा लेना पड़ा न्यालय के आदेश पर गोपालपुर थाने में मामला दर्ज हुआ जिसका कांड संख्या 113/2015 दर्ज किया गया इस कांड में कुल छ: अभियुक्तों के खिलाफ हत्या करने का मामला दर्ज किया गया जिसमे १. प्रमोद मिश्रा पिता स्वर्गीय केदार मिश्रा , २ . राजेश तिवारी पिता ललन तिवारी ३ . मातिवर तिवारी पिता स्वर्गीय सरल तिवारी , शशिकांत तिवारी पिता नागेन्द्र तिवारी सभी ग्राम तिवारी खरेया थाना गोपालपुर वही सुनील पाण्डेय पिता सुदर्शन पाण्डेय , भृगुन पाण्डेय पिता मुखदेव पाण्डेय ग्राम पाण्डेय खरेया थाना गोपालपुर के नाम पर नामदज प्राथमिकी दर्ज हुई उसके बाद अभियुक्तों द्वरा इस हत्या कांड को सड़क  हादसे में बदलने कि कोशिश कि गयी है घटना के लगभग तिन माह बितने के बाद भी अभी तक पुलिस का अनुसन्धान पूरा नही हुआ , अगर पीड़ित परिवार कि बातों को माने तो अभियुक्त आज भी खुलेआम घूम रहे है और पीड़ित परिवार को जान से मारने कि धमकी दे रहे है , इस संदर्भ में पीड़िता ने भारत के राष्ट्रपति , बिहार के मुख्यमंत्री सहित , राष्ट्रिय मानवधिकार आयोग को पत्र लिखकर न्याय दिलाने के साथ – साथ अपने परिवार कि सुरक्षा कि गुहार लगाई है , अपने लिखे पत्र में मृतक के भाई सतेन्द्र तिवारी कहा है कि जिले कि पुलिस से न्याय कि उम्मीद टूट चुकी है जिले के पुलिस कप्तान निताशा गुडिया सहित थाने में कई बार न्याय कि गुहार लगाई है लेकिन पुलिस के तरफ से अभी तक कोइ करवाई नही हुई है आखिर हमे कब तक न्याय मिलेगा .

 

क्या कहते है थाना प्रभारी

केस के अनुसंधानकर्ता अभी छुट्टी पर है , उनके आने के बाद केश के अनुसंधान रिपोर्ट आने पर आगे कि क़ानूनी करवाई कि जाएगी , अभी तक इस मामले में कुछ भी अस्पष्ट नही हो पाया है

राजदेव प्रसाद, थाना प्रभारी , गोपालपुर

क्या कहती है जिले के पुलिस कप्तान

पुलिस कप्तान से जब हमारे सवादाता ने इस मामले कि पूरी जानकारी चाही तो उन्होंने कुछ भी बताने से इनकार कर पीड़ित परिवार को भेजने कि बात कही

निताशा गुडिया, एसपी गोपालगंज

LEAVE A REPLY