विवेक सिहं जोनल हेड कानपुर

कानपुर। कोर्ट में गवाही देने आया दरोगा किसी बात को लेकर जज से ही बहस कर डाला और जज को अपमान जनक शब्द कह दिए। जिससे जज ने कोर्ट की तौहीन करने वाले दरोगा को कस्टडी में लेने का फरमान सुना दिया। जब तक पुलिस दरोगा को कस्टडी में लेती दरोगा पुलिसकर्मियों को धकियाता हुआ भाग निकला।

गोविन्द नगर चौकी इंचार्ज अमरेन्द्र सिंह एक पुराने मामले में सीएमएम तृतीय महेश कुमार की कोर्ट में शनिवार को दोपहर गवाही देने पंहुचा था। काफी देर तक कोर्ट में खडे़ रहने के बाद दरोगा की गवाही नहीं हो पाई। जिससे दरोगा आग बबूला हो गया और जज को बड़बड़ाने लगा। दरोगा की तेज आवाज सुन जज ने इंतजार करने को कहा। इस पर दरोगा आग बबूला हो गया और जज को अपमानजनक शब्द बोलने लगा।

यह देख उपस्थित अधिवक्ताओं ने भी दरोगा को समझाते हुए अनुशासन में रहने की बात कही। लेकिन दरोगा ने किसी की बात नहीं सुनी। इस पर जज ने दरोगा को कस्टडी में लेने के निर्देश दे दिए, जज के निर्देश के बाद पुलिसकर्मियों ने दरोगा को कस्टडी में लेने के लिए पंहुचे तो दरोगा पुलिसकर्मियों को धक्का देकर भाग निकला। दरोगा के इस दुस्साहस को देख कर जज ने आरोपी दरोगा के खिलाफ एसएसपी शलभ माथुर से कार्यवाही करने की बात कही है।

news reporter breaking news clipart
news reporter breaking news clipart

LEAVE A REPLY