विवेकसिहं कानपुर सुनामीन्यूज

कानपुर । जिला प्रशासन व नगर निगम का खौफ फूलबाग फूल मंडी के व्यापारियों पर साफ देखा जा सकता है। शनिवार को जिस तरह से सिटी नगर मजिस्ट्रेट मंडी को खाली कराने के लिए आपा खो बैठे थे। उसका साफ असर रविवार को सुबह मंडी पर देखने को मिला। मंडी के व्यापारी पुरानी जगह पर दुकान लगाने की जुर्रत नहीं कर सके और सड़क पर ही फूल बेेचते नजर आए।

फूलबाग चौराहे के पास नानाराव पार्क के तरण ताल पर कई सालों से फूल मंडी लगती चली आ रही थी। शनिवार को नगर निगम का दस्ता स्मार्ट सिटी बनाने में रोडा बन रही मंडी को हटाने पंहुचे थे। जिस पर व्यापारियों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट अमरपाल सिंह मौके पर पंहुचे और प्रदर्शनकारी नेता को कई तमाचे जड़ते हुए कहा कि कल से यहां पर मंडी नहीं लगनी चाहिए। इसके लिए आप लोग चाहे शिवालय मंडी जाएं या नवाबगंज की फूल मंडी।

सिटी मजिस्ट्रेट के खौफ के चलते रविवार को कोई भी व्यापारी पुरानी जगह पर फूल बेचने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। जिससे मजबूर होकर व्यापारियों ने सड़क पर दुकाने लगा डाली। मंडी संरक्षक उमाकान्त यादव ने बताया कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से इस विषय पर बातचीत की जाएगी। फिलहाल उम्मीद है कि प्रशासन सड़क पर मंडी लगाने से ऐतराज नहीं करेगा।

सड़क पर फूल ही फूल

फूलबाग ओईएफ तिराहा से भगवत दास घाट की ओर जाने वाली सड़क पर रविवार को फूल ही फूल दिखाई दे रहे थे। इस सड़क पर एक तरफ ओईएफ की चारदीवारी है और साफ सफाई भी तो वहीं दूसरे तरफ गंदगी है। लेकिन रविवार का भय व्यापारियों पर इस कदर छाया रहा कि ओईएफ की तरफ दुकाने लगाने के बजाय गंदगी के तरफ लगाना ज्यादा मुनासिब समझा। इस सड़क आने-जाने वाले लोग सड़क पर सैकड़ों टन फूल देखकर चकित हो रहे थे।

cbe10c60-620c-487c-8b88-f7dd8427519d

LEAVE A REPLY