दिल्ली का एक टॉप प्राइवेट स्कूल रेयान इंटरनेशनल अपने यहां बीजेपी सदस्यता अभियान चलाने को लेकर विवादों में घिर गया है. दरअसल स्कूल प्रशासन की तरफ से कई बार इस स्कूल के टीचर और स्टूडेंट्स को बीजेपी ज्वाइन करने के लिए कहा गया.
प्रोफेशनल सब्जेक्ट वाले स्कूलों में एग्जाम्स कराएगी सीबीएसई

इस मामले में हद तो तब हो गई जब सदस्यता नहीं लेने वाले कई स्कूल टीचर्स की सैलरी तक रोक ली गई. सदस्यता लेने के बाद ही उन्हें सैलरी दी गई. हालांकि इस मामले में स्कूल प्रशासन यह कहकर मुकर गया है कि यह अभियान स्वैच्छिक था.

सीबीएसई ने स्कूलों से मांगी सीसीई के अस्समेंट की डिटेल

स्कूल टीचर्स, स्टूडेंट्स और पैरेंट्स ने इस बारे में बताया कि उन्हें कई बार वाट्सएप पर सदस्यता अभियान में शामिल होने के लिए मैसेज आते थे और उन्हें एक टोल फ्री नंबर भी दिया जाता था. स्कूल स्टाफ ने तो यहां तक बताया कि स्कूल के छोटे बड़े हर स्टाफ को सदस्यता लेने के बाद 10 और सदस्य बनाने को कहा जाता था. इसके लिए फॉर्म और टोल फ्री नंबर भी भेजे जाते थे.

दिल्ली में अलग-अलग ब्रांच के स्कूल टीचर्स ने बताया कि स्कूल असेंबली में सदस्यता अभियान की घोषणा होती थी. उन्होंने यह भी बताया कि उनकी मार्च की सैलरी रोक ली गई है और उन्हें सदस्यता अभियान के फॉर्म भरने को दिए गए हैं जिसके बाद ही उन्हें सैलरी दी जाएगी.

रेयान इंटरनेशनल स्कूल की वेबसाइट की मानें तो इस स्कूल की देशभर में 133 ब्रांच हैं, जिसमें करीब 2 लाख स्टूडेंट्स पढ़ते हैं.

LEAVE A REPLY