कानपुर क्राइम रिर्पोट: नये साल में भी अपराध कम नहीं कर सकी पुलिस अफसर
विवेकसिहं ब्यूरो चीफ कानपुर
Www.sunamitimes.in
कानपुर। नये साल के जनवरी के आते ही पुलिस ने अपराध व अपराधियों पर नकेल कसने के लिए कमर कस ली और वाहन चेकिंग व गश्त को बढ़ाया। लेकिन इस नये साल के जनवरी माह में अपराध को रोकने में पुलिस काफी हद तक असफल दिखी है। हालांकि पुलिस ने हुए अपराध में कुछ घटनाओं का खुलासा किया लेकिन कुछ वारदातों के खुलासे के लिए उन्हे नाकों चने चबाने पड़ रहे है।

दरअसल पिछले साल शहर में जिस डबल मर्डर, डकैती, हत्या दुष्कर्म लूट चोरी की कई घटनाये हुई। जिसका पूलिस ने खूलासा भी किया और कुछ वारदातों के सुराग तक नहीं लगा सकी। लेकिन नये साल पहला माह जनवरी को शुरु होते ही पुलिस ने अपराध में संलिप्त लोगों की धरपकड़ के लिए मुखबिर तंत्र से लेकर वाहन चेकिंग व गश्त बढ़ा दी। लेकिन पुलिस हत्या, गैंगरेप, लूट और चोरी की घटनाओं को रोकने में असफल दिखी है। जनवरी माह में हुए चैबेपुर अनिल हत्याकांड को करीब एक माह बीतने वाला है लेकिन पुलिस हत्यारे को नहीं पकड़ सकी है।

वहीं पीएसआईटी के जंगल में मिले छात्र के हत्यारे को भी पता नहीं चल सका है, कल्यानपुर में छात्रावास में कांगे्रस नेता ने फांसी लगायी, जबकि छात्रावस में हमेशा छात्र रहते है, इसके पीछे कौन है, इसका भी पुलिस पता नहीं लगा सकी।  चकेरी में बाला इलेक्ट्रानिक्स में छह लाख की चोरी यह वह कई घटनाएं है जिससे पुलिस अभी तक पर्दा नहीं उठा सकी है। इससे यह अदांजा लगाया जा रहा है कि पिछले वर्ष की भांति इस नये साल के जनवरी माह में भी पुलिस अपराध को रोकने में काफी हद तक असफल दिखी है।

LEAVE A REPLY