पंजाब पुलिस ने एक सूचना के आधार पर पठानकोट से इरशाद नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है. इरशाद पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI का एजेंट बताया जा रहा है, जो पठानकोट कैंट के अंदर नौकरी पाने में कामयाब रहा था.

फोन से मिली संवेदनशील तस्वीरें
इरशाद ने पठानकोट में मैमम कैंट के अंदर एक मजदूर की नौकरी हासिल कर ली थी. इंटेलिजेंस एजेंसियों ने उसके पास से एक स्मार्ट फोन बरामद किया है, जिसमें संस्थान की कई संवेदनशील तस्वीरें मिली हैं.

पठानकोट कैंट, भारतीय सेना के सबसे बड़े और संवेदनशील मिलिट्री बेसों में से एक है. भारतीय सेना की एक डिविजन यहां बेस्ड है, जिसमें इनफैंट्री बटालियन और कैवलरी शामिल हैं.

अब भी निशाने पर पठानकोट
ये गिरफ्तारी भारत की इंटेलिजेंस एजेंसियों के लिए काफी अहम है क्योंकि पिछले दिनों पठानकोट हमले के बाद ये क्षेत्र अब भी आतंकियों के निशाने पर बना हुआ है. ज्यादातर मामलों में ISI एक जगह को निशाना बनाने के बाद नया टारगेट चुनती है क्योंकि एक बार हमला हो जाने के बाद वहां की सुरक्षा बढ़ा दी जाती है.

जांच में जुटी एजेंसियां
इंटेलिजेंस एजेंसियां अब जांच कर रही हैं कि इरशाद को कहां से निर्देश दिए जा रहे थे. एजेंसियां इस बात की भी जांच कर रही है कि क्या इरशाद ने पठानकोट एयरबेस हमले में भी किसी तरह की भूमिका निभाई थी

pathankot_145439377863_650x425_020216115445

LEAVE A REPLY