हैदराबाद: हैदराबाद के शोध छात्र रोहित वेमुला, जिसकी इसी महीने के पहले सप्ताह में की गई आत्महत्या की वजह से छात्रों में जोरदार गुस्सा व्याप्त है, को लेकर नक्षत्रविज्ञानी कार्ल सगन की पत्नी ऐन ड्रुयान ने एक खत लिखा है। 26-वर्षीय रोहित ने अपने सुसाइड नोट में लिखा था कि वह हमेशा से कार्ल सगन जैसा वैज्ञानिक बनना चाहता था।

रोहित के आखिरी शब्दों की जानकारी ऐन को कार्यकर्ता राजीव रामचंद्रन ने दी थी, और उसके बाद ऐन ड्रुयान ने उन पर अपने छोटे, लेकिन भावपूर्ण खत में प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

शृंखला ‘कॉस्मोज़’ में कार्ल सगन का साथ देने वाली तथा उनके साथ मिलकर किताबें लिखने वाली ऐन ने लिखा, “उसके सुसाइड नोट को पढ़ने और उसकी परेशानियों से वाकिफ होने से साफ पता चलता है कि हमारी सभ्यता में भेदभाव की असली कीमत क्या होती है… अगर हम किसी तरह यह पता लगा सकें कि पूर्वाग्रह की वजह से वास्तव में हमें ‘खो गए योगदानों’ और ‘नए विचारों’ का कितना नुकसान हुआ, तो मेरा मानना है कि हम स्तब्ध रह जाएंगे…”

ऐन ने आगे लिखा, “राजीव, आप बताइए, क्या ऐसा मुमकिन है कि रोहित की कहानी पर अब दिया जा रहा ध्यान उसके जैसी घटनाओं को बार-बार होने से रोक पाएगा…? मैं गैरज़रूरी तकलीफों और व्यर्थ हो चुकी काबिलियत की इस दिल तोड़ देने वाली कहानी में उम्मीद की किरण तलाश कर रही हूं…”

ऐन ने लिखा कि उन्हें रोहित की मौत के साथ-साथ उन उम्मीदों के खत्म हो जाने का भी अफसोस है, जो रोहित के साथ ही चली गईं।

ऐन ड्रुयान का यह खत राजीव रामचंद्रन ने फेसबुक पर डाला है।

एक प्रतिद्वंद्वी छात्र कार्यकर्ता को कथित रूप से पीटने के लिए रोहित तथा चार अन्य छात्रों पर रोहित ने हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी कैम्पस में स्थित होस्टल और कैफेटेरिया जैसे सभी सार्वजनिक क्षेत्रों में जाने पर पाबंदी लगा दी गई थी, और इसके कुछ ही दिन बाद 7 जनवरी को रोहित ने अपने होस्टल के कमरे में ही लटककर आत्महत्या कर ली थी।

रोहित ने सुसाइड नोट में लिखा था, “मैं हमेशा से लेखक बनना चाहता था… कार्ल सगन जैसा विज्ञान का लेखक… आखिरकार, मुझे सिर्फ यह खत लिखने का मौका मिला है… मुझे विज्ञान, सितारों प्रकृति से प्यार रहा है, लेकिन मुझे इंसानों से भी प्यार रहा है, यह जाने बिना कि वे काफी लंबे अरसे से प्रकृति से दूर जा चुके हैं…”

रोहित के समर्थकों का कहना है कि उसका बहिष्कार दलित होने की वजह से किया गया, और इस आरोप की वजह से राजनैतिक विवाद शुरू हो गया। विद्यार्थियों तथा विपक्षी दलों का आरोप है कि यूनिवर्सिटी को दो केंद्रीय मंत्रियों के दबाव की वजह से रोहित के खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ी, हालांकि बीजेपी ने इस आरोप को खारिज कर दिया है।rohith-vemula_650x400_71454322193

 

LEAVE A REPLY