मंत्री की सभा में राजनीति, नहीं आयी जनता, खाली रहीं कुर्सियां

वनमैन शो…। एक शख्स ने राजनीतिक चाल चली और पूरे कार्यक्रम को हाइजैक कर लिया। हर जगह खुद को ही दिखाया। बैठक भी खुद करते और मंच का निरीक्षण भी। रांची से भी खुद बात करते और दिल्ली से भी। भाजपा के अन्य नेता पीछे छूट गए। बस…यही बात उन्हें अच्छी नहीं लगी। उन्होंने इस आयोजन को वन मैन शो नहीं बनने देने के लिए राजनीति घोल दी। भीड़ जुटती, तो यह उस एक शख्स की सफलता होती। इसलिए भाजपा के चार में तीन विधायकों ने कार्यक्रम स्थल पर भीड़ जुटाने की कोशिश ही नहीं की। पार्टी के बड़े पदाधिकारियों का रवैया भी कमोबेश ऐसा ही दिखा। बस, बड़े नेता सिर्फ खुद सशरीर हाजिर हो गए। परिणाम सामने था, खाली कुर्सियां और खाली गैलरियां। बड़े नेताओं ने अपने समर्थकों को कार्यक्रम स्थल से दूर रखकर इसे वन मैन शो बनाने की एक शख्स की कोशिशें पर पानी फेर दिया। शाम 4:23 बजे साथ-साथ मुस्कुराए और साथ-साथ ही मंत्री जी का जयकारा भी लगाया। साथ-साथ रहने की सिर्फ औपचारिकता ही निभाई, वह भी सिर्फ होर्डिंगों में…। तोरण द्वारों में साथ-साथ मंत्री जी का स्वागत करने वाले नेता कार्यक्रम स्थल पर शुरू से लेकर अंत तक अलग-अलग दिखे।

LEAVE A REPLY