-नमामि गंगे की समीक्षा बैठक के दौरान
सांसद ने अधिकारियों को लगाई फटकर
विवेक सिह सुनामी न्यूज
कानपुर। प्रधानमंत्री के ड्रीम  प्रोजक्ट नमामि गंगे की सुस्त रफ्तार को देखते हुए एक बार फिर सांसद डा. मुरली मनोहर जोशी बिफर पड़े। अधिकारियों को फटकारते हुए कहा कि अगर इसी तरह से प्रोजेक्ट पर काम होता रहा तो पांच साल तो क्या 50 साल में भी गंगा की सफाई पूरी नहीं हो पाएगी। पार्लियामेंट एस्टीमेट कमेटी का 11 सदस्यीय दल सोमवार को शहर आकर कई विषयों पर रिपोर्ट तैयार कर रहा है।

जिसकी अध्यक्षता कानपुर सांसद व पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. मुरली मनोहर जोशी कर रहें हैं। मंगलवार को दल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट नमामि गंगे परियोजना की समीक्षा की। इस दौरान सांसद जोशी ने मौजूद केन्द्रीय और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व नगर निगम के अधिकारियों को खरी-खरी सुनाई। उन्होंने कहा कि जिस तरह से गंगा सफाई के नाम पर बनी पहले की सभी परियोजनाएं फेल हो चुकी है और करोड़ों रूपए पानी में बह गए।

उसी तहर अफसरान अब यही हाल नमामि गंगे का कर रहें हैं। सांसद ने साफतौर पर कहा कि इस परियोजना का काम जिस तरह चल रहा है, उससे तो पांच साल तो क्या 50 साल तक गंगा साफ नहीं हो पाएगी। गंगा जब तक अविरल नहीं होगी उसे निर्मल नहीं किया जा सकता।
लगने लगा है सवालिया निशान
सांसद डा. जोशी ने कहा कि प्रोजक्ट में धीमी गति से काम चलने के चलते लोग गंगा
सफाई को लेकर सवालिया निशान लगाने लगे हैं। अधिकारियों को चेतावनी देते हुए
कहा कि आंकड़ेबाजी से बाज आएं, कागजों में अच्छे आंकड़े पेश करने से गंगा साफ
नहीं होगी, धरातल पर काम करें, तभी कोई नतीजा मिलना संभव है।

LEAVE A REPLY