गोरखपुर. पति-बेटे की हत्या करने वाली अर्चना यादव पॉलिटिक्स में जाना चाहती थी। उसके एक दोस्त ने उसे लेकर कई खुलासे किए हैं। बता दें कि अर्चना वही महिला है जिसने अपने फेसबुक फ्रेंड के साथ मिलकर पति और बेटे की हत्या कर दी थी। ये हत्याकांड अभी भी यूपी में चर्चा का विषय बना हुआ है।
राजनीति में जाने के लिए क्या कर रही थी अर्चना
अर्चना ने इस काम के लिए फेसबुक फ्रेंड शिकोहाबाद के अजय यादव को चुना था। दरअसल, फेसबुक पर मुलायम सिंह यादव, शिवपाल, डिंपल और अखिलेश यादव के साथ अजय की फोटोज देखकर वह उसकी दोस्त बनी थी। उसे लगता था कि बड़े कॉन्टैक्ट वाला ये आदमी उसे राजनीति की बुलंदी तक पहुंचने में मददगार साबित हो सकता है।
दोस्त ने अर्चना के बारे में और क्या बताया…
– शाहपुर में रहने वाली अर्चना की एक पूर्व दोस्त ने बताया कि वह हमेशा मोहल्ले के मंदिर में आती और डांस करती थी।
– वह जब भी किसी नेता को देखती थी या फिर टीवी में उनका बयान सुनती थी तो कहती थी कि इनके ठाट हैं।
– असल मायने में ये ही जिंदगी जीते हैं। यही चीजें वह परिवार के लोगों से भी बताती थी।
अखिलेश यादव के साथ थी फोटो
मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड सपा के पूर्व प्रदेश सचिव अजय यादव ने जब अर्चना यादव को फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी तो उसने एक्सेप्ट कर लिया। अजय की प्रोफाइल फोटो अखिलेश यादव के साथ थी, जो उसने मार्फ करके तैयार करवाया था। वह यह भी नहीं जानती थी कि अजय की सभी फोटो फेक है।
अर्चना की ख्वाहिशों में पति बन रहा था बाधक
अर्चना के खुले विचारों में उसके पति ओम प्रकाश यादव बाधक थे। शादी के कुछ दिन बाद से ही दोनों में टकराव होने लगे थे। अजय से दोस्ती के बाद उनमें दूरियां और बढ़ने लगी थी। कुछ ही दिन में वह मायके जाने के बहाने अजय के बुलावे पर लखनऊ पहुंची। वहां दोनों पहले एक पार्क में मिले और फिर एक दोस्त के घर चले गए।
20 जनवरी को हत्या से पहले बनाए थे संबंध
बता दें कि ओम प्रकाश यादव और उसके पांच साल मासूम बेटे की हत्या 20 जनवरी की रात कर दी गई थी। हत्या का खुलासा पुलिस ने 24 घंटे के भीतर कर दिया था। इसमें यह खुलासा हुआ कि अर्चना ने पति और बेटे की हत्या से पहले अजय के साथ संबंध भी बनाया था। जेल में सवाल पूछे जाने पर उसने यह भी कहा था कि उसका बेटा था तो मार दिया। लोगों को क्या परेशानी है। इसपर अर्चना की पिटाई भी हुई थी।
सीएम सिक्युरिटी में तैनात हैं अर्चना के पिता
एसएसपी गोरखपुर रहे लव कुमार ने 24 घंटे के अंदर केस का खुलासा कर दिया था। इस केस में अर्चना को बचाने के लिए सीएम सिक्युरिटी के यहां से एक ऑफिसर का लगातार फोन आ रहा था। बता दें कि सीएम सिक्युरिटी में ही अर्चना के पिता तैनात हैं।

up_1454546293 (1)

LEAVE A REPLY