एम्स की तर्ज पर ग्रेटर नोएडा में  आयुर्विज्ञान संस्थान (इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज) जुलाई से शुरू होगा। इसी सत्र से यहां 150 सीट पर एमबीबीएस की पढ़ाई शुरू करने की भी तैयारी है। फरवरी के अंतिम सप्ताह तक डॉक्टर सहित अन्य कर्मचारियों के नियुक्ति के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा।

ग्रेटर नोएडा के कासना में बनाए गए आयुर्वज्ञिान संस्थान में पहले चरण में 350 बिस्तर होंगे। इसके बाद संख्या बढ़ाई जाएगी। संस्थान में 232 डॉक्टर, 250 नर्स सहित करीब 1,000 कर्मचारियों की नियुक्ति की जाएगी। वर्तमान में यहां 15 डॉक्टर सहित 100 कर्मचारी कार्यरत हैं। जगह की कमी की स्थिति में गौतमबुद्ध विश्ववविद्यालय के खाली स्थान पर भवन निर्माण भी होगा। पहले यहां मेडिकल विश्ववविद्यालय बनना था। इसके लिए भवन नर्मिाण भी कराया गया था।

इसका बजट करीब 800 करोड़ रुपये है। इसमें से करीब आधी रकम भवन नर्मिाण व अन्य उपकरणों में खर्च हो चुकी है। आयुर्विज्ञानसंस्थान में एनोटॉमी, फिजियोलॉजी, बायोकेमस्ट्रिी, पैथोलॉजी, फोरेंसिक मेडिसिन, सोशल एंड प्रिवेंटिव मेडिसिन, मेडिकल सर्जरी, स्त्री रोग, ईएनटी, रेडियोलॉजी, शिशु रोग सहित कई विभाग होंगे। 30 से अधिक विभागों में मरीजों को इलाज की सुविधा मिलेगी।AIMS-05-02-2016-1454692766_storyimage

LEAVE A REPLY