समूचे यूरोप और ब्रिटेन में इस्लाम को लेकर फैलते डर को दूर करने के उद्देश्य से ब्रिटेन की लगभग 90 मस्जिदों ने एक खुले सत्र का आयोजन किया ताकि नकारात्मक खबरों से परे जाकर इस्लाम के अर्थ को सही मायनों में समझाया जा सके।

इस पहल को पिछले साल मुस्लिम काउंसिल ऑफ ब्रिटेन ने शुरू किया था। इस साल इस पहल में लगभग दोगुनी मस्जिदों ने शिरकत की। लंदन, बर्मिंघम, मैनचेस्टर, लीडस, ग्लासगो, कार्डिफ, बेलफास्ट, प्लेमाउथ और कैंटरबरी की मस्जिदों ने हैशटैग विजिट माई मॉस्क कार्यक्रम में प्रतिभाग किया।

एमसीबी ने एक बयान में कहा, इन खुले सत्रों के द्वारा मुस्लिमों को एक मंच मुहैया कराया गया कि वे अपने साथी ब्रितानी नागरिकों को नकारात्मक सुर्खियों से परे जाकर अपने धर्म और समुदाय के बारे में सही जानकारी दे सकें।

इसने पिछले महीने के एक बयान में कहा था, स्थानीय मस्जिदें अंतर-धार्मिक नेताओं को भी इन सत्रों में आमंत्रित करेंगी और उन सभी से कहा जाएगा कि वह अपनी एकता और अखंडता को प्रदर्शित करने के लिए साथ आएं।

इन खुले सत्रों के दौरान इस्लाम से परिचय, मुस्लिम समुदाय के बारे में व्याख्या की गईं और साथ ही लोगों को प्राथनायें देखने एवं भ्रमण का भी अवसर दिया गया।

नवीनतम जनगणना के मुताबिक ब्रिटेन में लगभग 27 करोड़ मुस्लिम हैं जो कुल आबादी का लगभग साढ़े चार प्रतिशत हैं।muslim-08-02-2016-1454899349_storyimage

LEAVE A REPLY