प्यार जब सच्चा हो तो झूकता नहीं, बल्कि जमाने को झूका देता है। बिहिया में एक ऐसी ही प्रेम कहानी देखने को मिली। जहां प्रेमी युगल की जिद के आगे परिजन के साथ पुलिस को भी झूकना पड़ा। शनिवार की शाम दोनों ने शादी रचा ली। शादी का मंडप बना थाना का चबुतरा और गवाह बने पुलिस कर्मी।

इस दौरान एक-दूसरे को माला पहनाया और फिर दूल्हे ने दुल्हन की मांग में सिंदुर डाला। इसके बाद दोनों सदा के लिए एक-दूजे के हो गए। शादी के बाद थानाध्यक्ष सहित अन्य पुलिस कर्मियों ने जोड़ी को आर्शीवाद भी दिया। हुआ यह कि कोईलवर थाना क्षेत्र के बिन्दगांव नया टोला निवासी कौशल सिंह और धंडीहा गांव की आरती के बीच प्यार चल रहा था।

शुक्रवार को दोनों घर से भाग खड़े हुए। दोनों बिहिया स्थित अपने दोस्त के घर पहुंच गए। इस बीच युवती के पिता द्वारा बिहिया थाने की पुलिस को इसकी खबर दे दी गयी। पुलिस की कार्रवाई की भनक लगते ही दोनों वहां से भी निकल गए। इस पर पुलिस उनके दोस्त पर दबिश बनाने लगी।

काफी दबाव पर शनिवार की रात दोनों थाने पहुंचे और साथ जीने-मरने की कसम खाने लगे। दोनों के बीच बेपनाह प्यार को देख पुलिस ने शादी करने की रजामंदी दे दी। फिर क्या था, देखते ही देखते थाना परिसर शादी के मंडप में बदल गया। इस अनोखी शादी को देखने के लिए बहुत लोग जमा हो गए थे।

मौके पर थानाध्यक्ष एस के दूबे के अलावे सुशील कुमार सिंह,सोनू कुमार सिंह, रंजीत कुमार सिंह, अभिजीत कुमार सिंह, आदित्य विक्रम, टिंकु सिंह, सहित कई लोग उपस्थित थे।

कॉलेज में मिली नजर और हो गया प्यार
प्यार तो बहुत करते हैं, पर मंजिल किसी-किसी को मिलती है। थाने में शादी रचाने वाले प्रेमी युगल की कॉलेज में ही आखें चार हुई थी। बिंदगांव नया टोला निवासी कौशल कुमार जैन कॉलेज में पीजी फर्स्ट ईयर में पढ़ता था, जबकि युवती उसी कॉलेज में स्नातक की छात्रा थी। करीब डेढ साल पहले दोनों की पहली बार मुलाकात हुई।

रोज-रोज की मुलाकात प्यार में बदल गयी। बाद में प्यार परवान चढ़ गया और दोनों ने शादी करने की ठान ली। इधर जब परिजनों को इसकी भनक लगी तो प्यार के दुश्मन बन बैठे। शादी की बात पर नाराज परिजनों ने मिलने-जुलने पर भी रोक लगा दी। प्रेमी युगल ने परिजनों को समझाने का काफी प्रयास किया, पर बात नहीं बनी। इसके बाद पांच फरवरी को दोनों घर से भाग खड़े हुए।marriage-07-02-2016-1454852783_storyimage

LEAVE A REPLY