लोजपा नेता बृजनाथी सिंह को शुक्रवार की शाम अपराधियों ने एके 47 से भून डाला। मौके पर ही उनकी मौत हो गयी। गोलीबारी में उनकी पत्नी बीरा देवी भी घायल हो गयी। घटना दीदारगंज थाने के कच्ची दरगाह के समीप हुई। पुलिस ने मौके से एके-47 के दर्जनभर से अधिक खोखे बरामद किए हैं। घटना के बाद इलाके में हड़कंप मच गया। मौके पर फतुहा, दीदारगंज व राघोपुर पुलिस पहुंच गयी।

बृजनाथी पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के खिलाफ राघोपुर से चुनाव भी लड़े थे। पिछले साल विधानसभा चुनाव में उनके बेटे राकेश रौशन राघोपुर से उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ चुनाव लड़े थे। बृजनाथी के छोटे भाई की पत्नी अनिता देवी राघोपुर की प्रखंड प्रमुख हैं। पुलिस के मुताबिक  बृजनाथी सिंह के खिलाफ 20 मामले दर्ज हैं।
गोलियों की बौछार कर दी: प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बृजनाथी सिंह अपनी पत्नी बीरा देवी के साथ मार्शल गाड़ी से पटना जा रहे थे। जैसे ही उनकी गाड़ी फतुहा थाने के कच्ची दरगाह स्थित सेन्ट्रल बैंक के पास पहुंची, पहले से घात लगाए अपराधियों ने उनपर गोलियों की बौछार कर दी। अपराधियों के पास से एके 47 थी। फायरिंग में बृजनाथी सिंह की मौके पर ही मौत हो गयी। गोलीबारी में उनकी पत्नी घायल हो गईं। उन्हें गंभीर हालत में पटना सिटी के निजी अस्पताल पहुंचाया गया, जहां लोगों ने काफी बवाल किया। साथ ही सड़क भी जाम कर दिया।
पुलिस छानबीन में जुटी: सरेआम हत्या के बाद फतुहा, दीदारगंज और राघोपुर थाने की पुलिस के साथ ही एसएसपी मनु महाराज, ग्रामीण एसपी ललन मोहन प्रसाद व राघोपुर और फतुहा के डीएसपी भी मौके पर पहुंचे। घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है। पुलिस का कहना है कि हत्या के पीछे राजनीतिक रंजिश के साथ आपसी विवाद भी हो सकता है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।baijnathi-05-02-2016-1454682271_storyimage

LEAVE A REPLY