प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि छोटे उद्यमियों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत अब तक एक लाख करोड़ रुपये के ऋण वितरित किए गए हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकार चाहती है कि युवा रोजगार सृजन करने वाले बने न कि रोजगार तलाशने वाले।

इंडियन ऑयल कारपोरेशन (आईओसी) की पारादीप रिफाइनरी के उद्घाटन के मौके पर मोदी ने कहा कि सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के अलावा व्यक्तिगत क्षेत्र के विकास की जरूरत है जिसमें युवा आत्म निर्भर हो सकते हैं, कंपनियां शुरू कर सकते हैं और रोजगार के नये क्षेत्र सृजित कर सकते हैं।

मोदी नहीं कहा कि हम नहीं चाहते कि देश के युवा रोजगार तलाशने वाले बने, हम चाहते हैं कि वे रोजगार पैदा करने वाले बने और वे एक, दो या पांच लोगों को रोजगार दे सके। उन्होंने कहा कि इसीलिए मुद्रा योजना के तहत हम युवाओं को वित्त सुविधा उपलब्ध करा रहे हैं। हमने एक लाख करोड़ रुपये वितरित किये हैं। इतने कम समय में इतने लोगों को ऋण देना छोटी बात नहीं है।

पिछले वर्ष अप्रैल में शुरू प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत छोटे उद्यमियों को 50,000 रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक का कर्ज दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश में 65 प्रतिशत आबादी 35 साल से कम आयु के लोगों की है और इन युवाओं की प्रगति के लिये उद्यमशीलता को बढ़ाने की जरूरत है।modi-07-02-2016-1454848225_storyimage (1)

LEAVE A REPLY