मुसीबत के दौर में बीमा से जमा रकम निकालने पर कोई कटौती नहीं किए जाने की सुविधा जल्द उपभोक्ताओं को मुहैया होगी। भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण ऐसा नियम बनाने जा रहा है जिसमें बीमा कंपनियां आपात स्थिति में बीमा के तहत जमा रकम निकालने पर किसी भी तरह की कटौती नहीं कर पाएंगी।

बीमा धारकों ने प्राधिकरण (इरडा) से पॉलिसी तोड़े जाने पर जमा राशि में भारी कटौती किए जाने की कंपनियों की कारगुजारी से मुक्ति दिलाने का आग्रह किया था। दरअसल सभी बीमा कंपनियां अवधि पूरी होने पर ही बीमा की जमा रकम में अन्य लाभ जोड़कर पूर्ण भुगतान करती हैं अगर इससे पहले कोई पॉलिसी तोड़कर अपना जमाधन भी निकालना चाहता है तो भारी कटौती की जाती हैं।

इरडा के एक अधिकारी के मुताबिक सभी बीमा कंपनियां पॉलिसी के प्लान के मुताबिक अचानक पैसा निकालने यानी पॉलिसी तोड़ने पर कटौती करती हैं जबकि कई कंपनियों ने अपने उपभोक्ताओं को इस संबंध में विकल्प भी दे रही हैं, लेकिन सभी ऐसा नहीं कर रहे हैं। इसलिए प्राधिकरण इससे जुड़े नियम में बदलाव करने जा रहा है।

अधिकारी के अनुसार प्राधिकरण ग्राहकों को दस से पंद्रह प्रतिशत रकम पॉलिसी में छोड़कर पैसा निकालने पर कटौती नहीं किए जाने विकल्प लाएगा। इस तरह से पॉलिसी भी जारी रहेगी और इमरजेंसी के दौरान जमा पैसा निकालने में कटौती भी नहीं होगी हालांकि अधिकारी ने स्पष्ट किया कि यह सुविधा बाजार पर आधारित प्लान में नहीं दी जाएगी। साथ ही बीमा कंपनियों की ओर से पॉलिसी बेचते समय ग्राहक को यह विकल्प दिया जाएगा। यदि वह विकल्प नहीं लेंगे तो अचानक पैसा निकालने पर कंपनियों की ओर से कटौती की जाएगी।

गौरतलब है कि मौजूदा समय आपात स्थिति में बीमित व्यक्ति अपनी पॉलिसी तोड़कर ही बीमा में जमा पैसा निकाल सकता है। ऐसा करने पर विभिन्न बीमा कंपनियां 20 से 35 प्रतिशत तक और कुछ इससे भी ज्यादा कटौती करती हैं। ऐसे में प्राधिकरण की ओर से लाया जाने वाला विकल्प ग्राहकों को बेवजह काटे जाने वाली रकम से बचाएगा।

irda-26-01-2016-1453820449_storyimage

LEAVE A REPLY