पवन नेगी को देख बड़ी बहन बबिता भी बनी क्रिकेटर

आईपीएल- 2016 की नीलामी में सबसे महंगे भारतीय खिलाड़ी बने पवन नेगी की बड़ी उनकी बहन बबिता भी क्रिकेटर हैं। वह दिल्ली के लिए राष्ट्रीय स्तर पर खेलती हैं। उम्र में 2 साल छोटे भाई के टीम इंडिया में चुने जाने और फिर आईपीएल नीलामी में स्टार खिलाड़ी बनने पर बहन बबिता बेहद खुश नजर आईं। बबिता ने बताया कि उन्होंने छोटे भाई को देखकर ही क्रिकेट खेलना शुरू किया था। बबिता भारतीय रेलवे में बतौर सीनियर क्लर्क काम करती हैं।

पवन के भारतीय क्रिकेट टीम में चुने जाने और फिर आईपीएल नीलामी में स्टार खिलाड़ी बनने पर दक्षिणी दिल्ली स्थित सादिक नगर का सेक्टर-3 का माहौल शनिवार को बेहद खास हो गया। सेक्टर-3 में ‘हिन्दुस्तान’ संवाददाता ने जब एक बच्चे से पूछा कि पवन का घर कहां है, तो वह बोला, ‘अच्छा, वो साढ़े आठ करोड़ वाले पवन भैया।’ घर के बाहर भी पवन को बधाई देने वालों को तांता लगा था।

पवन के पिता जीएस नेगी यूजीसी में सेक्शन ऑफिसर हैं। जीएस नेगी ने बताया कि उसे बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था। हमने भी उसे खेलने दिया। नतीजा आज सामने हैं। वह बोले, ‘आईपीएल से पवन को पहचान मिली, लेकिन सबसे ज्यादा खुशी इस बात की है कि उसे टीम इंडिया में जगह मिली है।’

बातचीत के दौरान दोस्तों के साथ पवन भी आए। वह बोले, ‘अभी प्रैक्टिस से लौटा हूं। विश्वास नहीं था कि इतनी बड़ी बोली लगाई जाएगी। जब बोली लगी तो परिवार के साथ ही टीवी पर इसे देखा। पूरी सफलता का श्रेय मां-बाप को देता हूं।’ बकौल पवन, ‘क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट उनकी प्राथमिकता है। इसलिए तीनों में ही फॉर्मेट में अपनी जगह टीम इंडिया में बनाना चाहता हूं।’

टी-20 क्रिकेट विश्वकप में चुने जाने पर पवन ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में टीम के जोरदार प्रदर्शन के कारण उन्हें नहीं लग रहा था कि वह चुने जाएंगे। हालांकि, उन्हें विश्वास था कि उनकी टीम में जगह तो बनेगी।

उत्तराखंड के द्वारहाट से ताल्लुक :पवन का परिवार उत्तराखंड के द्वारहाट के तुमड़ी गांव से ताल्लुक रखता है।  बकौल जीएस नेगी,‘ मेरे पिता बीएस नेगी 50 साल पहले दिल्ली आ गए थे। वह यहां नौकरी करते थे। पवन का जन्म भी यहीं हुआ।’ उन्होंने बताया कि गांव जाना अब कम हो पाता है, लेकिन जब भी मौका मिलता है, वह जाते जरूर हैं।

कुछ खास
पवन ने 12वीं तक की पढ़ाई डीपीएस, मथुरा रोड से की है। खेल में व्यस्तता के कारण ग्रेजुएशन नहीं कर पा रहे हैं।
पवन को चेन्नई सुपरकिंग में धौनी से बातचीत करने में हिचकिचाहट हुई थी। शाम को जाकर बोला था गुड इवनिंग
पवन नेट पर धौनी और सुरेश रैना को बॉलिंग करना सबसे मुश्किल मानते हैं। डेनियल विटोरी पसंदीदा स्पिनर हैं।

साढ़े आठ करोड़ रुपए से महत्वपूर्ण खेल : मां
पवन की मां कमला नेगी गृहिणी हैं। उनसे जब पूछा गया कि साढ़े आठ करोड़ रुपए मिलने के बाद क्या करेंगी तो उन्होंने कहा कि बेटा खेले और अच्छा खेले, ये ज्यादा अहम है। मां ने कहा कि उसकी हर सफलता पर खुशी है चाहें वह उसके रणजी में खेलने की बात हो, आईपीएल में उसका पहला मैच हो। पहले टीम इंडिया में चुना जाना और आज आईपीएल में सबसे महंगा भारतीय खिलाड़ी बनना…बस अच्छा खेले यही दुआ है। वहीं, परिवार में पवन की 78 साल की दादी चंद्रकला भी बेहद खुश दिखी है।

उत्तराखंड में क्रिकेट का ढांचा बदले : पवन नेगी
उत्तराखंड से मूलत: ताल्लुक रखने वाले पवन ने कहा कि वह चाहते हैं कि यहां भी क्रिकेट का ढांचा बदले, क्योंकि वहां से कई खिलाड़ी निकलकर आए हैं। उन्होंने कहा कि टीम को मान्यता भी मिले तो यह और बेहतरीन रहेगा। गौरतलब है महेंद्र सिंह धौनी, मनीष पांडेय भी मूलत: उत्तराखंड से ताल्लुक रखते हैं।

LEAVE A REPLY