मौनी अमावस्या पर नेपाल के त्रिवेणी धाम में स्नान करने जा रही श्रद्धालुओं से भरी ट्रैक्टर-ट्राली रविवार रात 11 बजे नारायणी नदी के बेलाटारी बंधे पर अनियंत्रित होकर 50 फीट गहरी खाई में गिर गई। हादसे में दादी-पोते की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। 18 श्रद्धालु गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी को नेपाल के नवलपरासी जिला अस्पताल व चौतरवा हास्पिटल में भर्ती कराया गया है। घटना की सूचना पर रात में पहुंची नेपाल पुलिस व आसपास के ग्रामीण राहत कार्य में जुट गए।

मिठौरा क्षेत्र के सेमरा, मिठौरा, हड़तोड़वा व बरोहिया गांव के 45 श्रद्धालु मौनी अमावस्या पर नारायणी नदी में डुबकी लगाने ट्रैक्टर-ट्राली पर सवार होकर नेपाल के त्रिवेणी धाम जा रहे थे। झुलनीपुर भंसार के बाद रात के 11 बजे जैसे ही ट्रैक्टर-ट्राली नारायणी नदी के बेलाटारी बांध पर पहुंची, ओवरटेक के चक्कर में ट्राली बंधे के किनारे पहुंच कर पचास फीट गहरी खाई में गिर गयी। इस घटना में मिठौरा की कमलावती पत्नी महेश (70) व उसका 17 वर्षीय नाती लवकुश उर्फ भोला पुत्र महेश की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

देवदूत बन कर आए नेपाली, बचा लिए  कई की जान
दर्दनाक हादसे से चीख-चीत्कार मच गई। दूसरे वाहन पर सवार अन्य श्रद्धालुओं ने नेपाल पुलिस को घटना की सूचना दी। इस दौरान घायलों की मदद करने बेलाटारी सहित पास-पड़ोस के कई गांवों के ग्रामीण देवदूत बन कर रात में घटना स्थल पर पहुंच गए। ट्राली को बास-बल्लियों के सहारे सीधा कर उसमें फंसे श्रद्धालुओं को बाहर निकाला। रात में भी घायलों को नवल परासी के जिला अस्पताल व पास के ही चौतरवा हास्पिटल में भर्ती कराया ।

ट्राली पर सवार थे 45 श्रद्धालु
मौनी अमावस्या के दुर्लभ अर्घोदय संयोग पर नेपाल के त्रिवेणी धाम में स्नान करने मिठौरा, सेमरा, हड़तोड़वा व बरोहिया गांव से कुल 45 श्रद्धालु ट्रैक्टर-ट्राली से रवाना हुए। दुर्घटना के बाद इसमें से संगीता, सोनू, नारद, संजय, खेदू, राधिका, मीना, रोजी सहित कुल 18 श्रद्धालु गंभीर रूप से घायल हुए हैं। जिन्हें इलाज के लिए नेपाल के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मामूली रूप से घायल श्रद्धालुओं को प्राथमिक उपचार के बाद छोड़ दिया गया। इस घटना से मिठौरा क्षेत्र में चीख-चीत्कार मच गयी। घायलों के परिजन सोमवार की सुबह ही नेपाल रवाना हो गए।

झुलनीपुर में चालक ने छक कर पी थी शराब
हादसे में मौत के मुंह से बच कर कर लौटे श्रद्धालुओं ने बताया कि झुलनीपुर में नेपाल इंट्री कराने के लिए भंसार शुल्क जमा करने में दो घंटे तक ट्रैक्टर-ट्राली  खड़ी रही। इसी दौरान चालक छक कर नेपाली शराब पी लिया। भंसार शुल्क जमा करने के बाद जैसे ही उसने स्टेयरिंग थामी, उसके बाद बंधे पर बनी सड़क पर त्रिवेणी जाने वाले वाहनों को ओवरटेक करने लगा। श्रद्धालुओं ने चालक को धीमा चलने के लिए कई बार टोका भी, लेकिन चालक ने उसे अनसुना कर दिया। बताया जा रहा है कि घटना के पहले आधा दर्जन वाहनों को ओवरटेक किया था। बेलाटारी के पास जिस जगह हादसा हुआ वहां भी एक गाड़ी को ओवरटेक करने के चक्कर में चालक गाड़ी को बंधे के किनारे लेकर चला गया, लेकिन संभाल नहीं पाया। अनियंत्रित होकर श्रद्धालुओं से भरी ट्रैक्टर-ट्राली पचास फीट गहरी खाई में गिर गई।

LEAVE A REPLY