सियाचिन में छह दिनों तक भारी बर्फ के नीचे दबे रहे लांसनायक हनुमन तप्‍पा कोपड़ की जिंदगी की खातिर लखीमपुर खीरी जिले की एक महिला ने अपनी किडनी देने की पेशकश की है.

सरिता नाम की इस महिला ने कहा कि जब देश के लिये एक जवान अपनी जान दे सकता है तो क्या मैं अपनी किडनी भी नहीं दे सकती. सियाचिन में देश की हिफाजत को तैनात लांसनायक हनुमन तप्‍पा 6 मीटर बर्फ में दबकर भी जिन्दा मिले हैं, लेकिन उनकी हालत बेहद खराब है. दिल्ली के आर आर अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है.

जानकारी के मुताबिक बिजुआ इलाके की पड़रिया तुला कस्बे में रहने वाली सरिता पाण्डे हॉउस वाइफ है. उनके पति दीपक पांडे प्राइवेट बस मैनेजर हैं. सरिता का कहना है कि किडनी देने की पहली इच्छा तो उनके पति की थी, लेकिन वह अपने कई अंग पहले ही दान कर चुके हैं, इसलिए इस बार उनको यह मौका मिला.

इलाहाबाद में हाथों में मोमबत्तियां लेकर बच्चों ने की प्रार्थना
सियाचिन में छह दिनों तक बर्फ में दबकर मौत को मात देने के बाद अब जिंदगी की जंग लड़ रहे सेना के जवाब हनुमन तप्‍पा की सलामती और उनके जल्द ठीक होने की कामना के लिए इलाहाबाद में अलग अलग जगह लोग दुआएं कर रहे हैं. वहीं चिल्ड्रेंस एकेडमी स्कूल के छोटे-छोटे बच्चों ने हाथों में मोमबत्तियां लेकर हनुमन तप्‍पा के लिए प्रार्थना की और ईश्वर से उन्हें जल्द से जल्द ठीक करने व लंबी जिंदगी देने की कामना की. बच्चों ने इस मौके पर सियाचिन के ग्लेशियर में जान गंवाने वाले जवानों को श्रद्धांजलि भी दी.

kidni-10-02-2016-145_145509720958_650x425_021016031310

हरिद्वार के गुरुकुल में महामृत्युंजय मंत्र का जाप
हरिद्वार के गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय की यज्ञशाला में हनुमन तप्‍पा के स्वास्थ्य के लाभ के लिए छात्रों और शिक्षकों ने यज्ञ किया इस अवसर पर उन्होंने महामृत्युंजय मंत्र का जाप भी किया और ईश्वर से उनको जल्द से जल्द स्वस्थ्य करने की प्रार्थना की. विश्विद्यालय के कुलपति, कुलसचिव और अनेक छात्र भी इस जाप में शामिल हुए इस मौके पर सियाचिन में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि भी दी गई.

LEAVE A REPLY