– मंगलवार को स्पेशल सीजेएम को मिली थी धमकी भरा पत्र
विवेकसिहं ब्यूरोचीफ
कानपुर मंडल

सुनामी एक्सप्रेस न्यूज
कानपुर। मंगलवार को जिला जज को धमकी भरा पत्र भेजकर दस लाख रुपये मांगे गये थे। यह पत्र मिलने के बाद कचहरी परिसर में हड़कम्प मच गया। जज ने पत्र को पुलिस के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने मामले को गंभीरता से देखते हुए पत्र में जो पता व नंबर लिखा तो उसे ट्रैस का उस पते पर पहंुची तो फर्जी निकला। उधर एसएसपी ने मामले को गंभीरता से लेकर जिला जज के साथ अन्य मजिस्टेªटो की सुरक्षा बढ़ा दी गयी। बुधवार को भी पुलिस ने कचहरी में जजों की सुरक्षा के लिए लगी रही तो वही कोतवाली सीओ व इंस्पेक्टर ने कचहरी में सघन चेकिंग भी की।
बताते चले कि मंगलवार को स्पेशल सीजीएम कोर्ट में बैठकर सुनवाई कर रहे थे। उसी दौरान उनको एक पत्र मिला। पत्र भेजने वाले का नाम सुरेश और ट्रांसपोर्ट का पता व नीचे फोन नंबर लिखा था। सुरेश ने उस पत्र दस लाख रुपये की रकम मांगी और न देने पर जान से मारने की धमकी व बम से कार उड़ाने की बात लिखी थी। यह पत्र को पढ़ते ही सीजीएम के माथे पर पसीना आ गया और सोचने लगे कि आखिर यह पत्र भेजा किसने और क्या चाहता है। उधर जिला जज को धमकी भरा पत्र मिलने के बाद परिसर में हड़कम्प मच गया। इस पर जिला जज ने कचहरी चैकी इंचार्ज व कोतवाली पुलिस को सूचना दी। सूचना पाकर इंस्पेक्टर हरीराम वर्मा व चैकी इंचार्ज शिव सिंह पहंुच गये। जज ने धमकी भरा पत्र उन्हे देकर मामले की जांच करने को कहा।
एसओ ने पत्र के नंबर व पता के आधार पर पुलिस को भेजा, लेकिन पता व नंबर फर्जी निकला। इस पर पुलिस ने उस नंबर को सर्विलांस पर लगाते हुए पत्र भेजने वालें के तलाश शुरु कर दी। एसएसपी शलभ माथुर ने कचहरी परिसर का मौहाल को देखते एहतियान के तौर जजों की सुरक्षा को देखते हुए पीएसी व पुलिस की सुरक्षा बढ़ा दी है

LEAVE A REPLY