नया रेल बजट आने वाला है। लगातार घाटे से उबारने की कोशिश में लगा रेल मंत्रालय इस पर किराए भाड़े पर अपनी कलम चलाएगा। इस बात के पुख्ता संकेत मिल रहे हैं। खबरों के मुताबिक आगामी बजट में यात्री किरायों में पांच से 10 फीसदी तक इजाफा होने की संभावना है। अब यात्रियों के दिमाग में एक बड़ा सवाल चल रहा है। क्या इस बजट के बाद रेल से सफर हवाई यात्रा से महंगा तो नहीं हो जाएगा।

1AC का भाड़ा फ्लाइट फेयर से डेढ़ गुना न हो जाए
आइए इस सवाल के पीछे की वजहों पर बात करते हैं। अगर आज से तीन महीने बाद 15 मई का रेल टिकट लें और हमें दिल्ली से पटना तक का सफर करना हो तो राजधानी से जाने का किराया वर्तमान में 1AC से 3870 रुपये पड़ रहा है। यदि ये 10% भी महंगा किया गया तो नया किराया हो जाएगा 4257 रुपये। वहीं अगर उसी तारीख यानी 15 मई का टिकट हवाई जहाज से देखें तो 3000 या उससे थोड़े अधिक में किसी भी फ्लाइट से किसी भी वक्त सफर किया जा सकता है। और इसका फायदा होगा कि वक्त भी बचेगा।

2AC का भाड़ा होगा फ्लाइट फेयर के लगभग बराबर
अब इस इस फ्लाइट किराए की तुलना रेलवे के अन्य क्लास यानी 2AC या 3AC से करें तो हकीकत यहां भी सामने आएगी। वैसे भी रेलवे में अब AC सफर का मतलब 2AC ही रह गया है क्योंकि 3AC का सफर स्लीपर जैसा ही होने लगा है। अब देखिए 15 मई को अगर राजधानी से दिल्ली से पटना तक सफर करें तो 2AC का किराया है अभी 2370 रुपये। अब अगर 10% किराया बढ़ा तो किराया हो जाएगा 2607 रुपये। यानी फ्लाइट के किराए से मात्र 400 रुपये कम।

train-11-02-2016-1455164875_storyimage

LEAVE A REPLY