सियाचिन में 35 फुट बर्फ के नीचे छह दिन मौत को मात देने वाले लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पाड गुरुवार को दिल्ली के सैन्य अस्पताल में जिंदगी की जंग हार गए। उन्होंने सुबह 11 बजकर 45 मिनट पर अंतिम सांस ली। लांस नायक 9 फरवरी को अस्पताल लाए गए थे।

चमत्कारिक मानव: डॉक्टरों और विशेषज्ञों ने हनुमनथप्पा को चमत्कारिक मानव बताया था। मद्रास रेजिमेंट के 33 वर्षीय जवान के परिवार में उनकी पत्नी महादेवी और दो वर्ष की बेटी नेत्रा कोप्पाड हैं। कर्नाटक के धारवाड़ के बेटादूर गांव के रहने वाले कोप्पाड 13 वर्ष पहले सेना से जुड़े थे। उनका अंतिम संस्कार शुक्रवार को राजकीय सम्मान के साथ उनके गांव में किया जाएगा।

LEAVE A REPLY