सुसाइड नोट में बीनू नाम की लड़की का जिक्र करते हुए बताया निर्दोष

सुनामी एक्सप्रेस न्यूज
विवेक सिहं
कानपुर। कल्याणपुर थाना क्षेत्र में भाजपा पार्षद की 19 बर्षीय बेटी ने प्रेम प्रसंग के चलते सुसाइट कर लिया। सुसाइड नोट में लड़के का नाम तो नहीं लिखा गया लेकिन उसमें यह साफ लिखा है कि उसका अब मेरा कोई रिश्ता नहीं है। सूचना पर पंहुची पुलिस ने शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

भाजपा पार्षद बीना कुशवाहा की 19 वर्षीय बेटी सुपिया उर्फ रत्ना बी.ए. की छात्रा थी। जानकारी के मुताबिक उसका किसी लड़के के साथ अफेयर चल रहा था जिससे घरवाले उससे काफी नाराज रहते थे। इसके साथ ही यह बताया गया कि पिता के मरने के बाद वह काफी चिड़चिड़ी हो गई थी। वेलेंटाइन डे के पहले पार्षद बेटी ने घर का एटीएम अपने प्रेमी को रूपया निकालने के लिए दे दिया और घर में इसी बात को लेकर झगड़ा हो गया। जिसके बाद बेटी ने रात में बंद कमरे में पंखें के कुंडे से झूल कर आत्महत्या कर लिया।

सुबह कमरा न खुलने पर घरवालों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर जाकर दरवाजा तोड़ते हुए शव को फंदे से उतारा और पंचनामा करते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इंस्पेक्टर संतोष कुमार सिंह ने बताया कि सुसाइड नोट को कब्जे मंे ले लिया गया है अगर कोई तहरीर देता है तो आगे की कार्रवाई की जाएगी।

नहीं पंहुची महिला कांस्टेबल

भाजपा पार्षद के बेटी की आत्महत्या के बाद पंहुची पुलिस आनन-फानन में शव को फंदे से उतारते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। जबकि नियमतः किसी महिला के शव को महिला कांस्टेबल के बिना उसे पोस्टमार्टम नहीं भेजा जा सकता।

बीनू निर्दोष है

सुसाइट नोट में किसी बीनू लड़की का जिक्र किया गया है और निर्दोष बताते हुए लिखा गया है कि अगर बीनू को मेरे घरवाले परेशान करते हैं तो मेरी मौत का जिम्मेदार भी घरवाले होंगें। वहीं घरवाले सभी बातों को झूठा बता रहें हैं। पार्षद का मामला देख पुलिस भी पहले सुसाइट नोट को छिपा रही थी।

63ed3a21-a02f-454b-be12-b6a16de743b4

LEAVE A REPLY