गिरिडीह जिले के बगोदर में रविवार शाम मां सरस्वती के प्रतिमा विसर्जन जुलूस में घुसे कंटेनर ने दो दर्जन से ज्यादा लोगों को कुचल दिया। इस हादसे में 10 लोगों ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया, जबकि दो की मौत अस्पताल ले जाने के दौरान हुई।

हादसे के बाद घटनास्थल पर चीख-पुकार मच गई। रोड पर खून ही खून देखकर कई ग्रामीण चक्कर खाकर गिर पड़े। घायलों को धनबाद और हजारीबाग रेफर किया गया है। हादसा बगोदर मुख्यालय से चार किलोमीटर दूर गैड़ा के पास शाम सवा छह बजे हुआ। हताहत लोगों में ज्यादातर गैड़ा व संतुरपी गांव के हैं। घटना के बाद पुलिस-प्रशासन और स्थानीय लोगों ने घायलों को बगोदर अस्पताल पहुंचाया।

स्थानीय लोगों ने बताया कि संतुरपी प्राथमिक विद्यालय से शाम चार बजे सरस्वती प्रतिमा विसर्जन के लिए जुलूस निकाला गया। इसमें बड़ी संख्या में छात्र और गांव के लोग शामिल थे। गांव में घूमने के बाद जीटी रोड के डिवाइडर को पार कर सड़क के बाईं ओर से जुलूस गुजर रहा था। इसी बीच गैड़ा के पास डुमरी की ओर से आ रहे कंटेनर ने नाचते-गाते बच्चों व लोगों को रौंद डाला।

कंटेनर ने पास के एक घर को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को एक लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की है। बगोदर विधायक नागेंद्र महतो ने घटना के लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है।

LEAVE A REPLY