आईआईटी खड़गपुर और एनआईटी के दो छात्रों ने एक ऐसा मोबाइल एप तैयार किया है जो कंफर्म रेल टिकट की आपकी समस्या दूर करेगा। यानी ये एप आपका टिकट एजेंट बन जाएगा। अभी तक आपको रेलवे टिकट सिर्फ आईआरसीटीसी की वेबसाइट या एप से मिलता है वो भी जैसी उपलब्धता आपकी यात्रा शुरुआत वाले स्टेशन से है उसके अनुसार। मगर ये आपको कोई विकल्प नहीं देता है। मसलन आप अपनी यात्रा में क्या बदलाव करें कि टिकट कंफर्म मिल जाए।jugad1455441009_bigएप बनाने वाले रूणाल जाजू ने बताया, टिकट बुकिंग के लिए स्टेशन-वार कुछ कोटा होता है। मिसाल की तौर पर यदि आपको दिल्ली से यात्रा करनी है। लेकिन वहां से टिकट वेटिंग में दिख रहा है, पर अगर आप गाजियाबाद या किसी और पास के स्टेशन से टिकट जांचें तो टिकट होता है। बस यही मदद करेगा ये एप। अगर आप ऐसे स्टेशन को खुद से खोजना चाहें तो यह मुश्किल होगा, लेकिन ये एप इसे स्वत: कर देता है।train1455440743_bigटिकट जुगाड़ नाम के इस एप का विकास आईआईटी खड़गपुर के दूसरे वर्ष के छात्र रूणाल जाजू और उनके चचेरे भाई शुभम बलदावा ने किया है। बलदावा जमशेदपुर एनआईटी के छात्र हैं। आईआईटी के उद्यमशीलता प्रकोष्ठ ने इस ऐप्प को समर्थन दिया है और इस स्टार्ट अप को आईआईटी खड़गपुर के वार्षिक ग्लोबल बिजनेस माडल कंपटीशन में डेढ़ लाख रूपये का इनाम मिला है। यह ऐप्प प्रस्थान स्टेशन से पहले या बाद के स्टेशनों के हिसाब से उपलब्ध टिकट खोज देता है और किसी कन्फर्म टिकट से पूरा होने वाले अधिकतम मार्ग की जानकारी देता है।

LEAVE A REPLY