रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके चैन सिंह ने 12वें दक्षिण एशियाई खेलों में रविवार को फिर अपनी चमक बिखेरकर अपना छठा स्वर्ण पदक जीता जिससे भारत ने इन खेलों में अपना दबदबा बरकरार रखते हुए पदक तालिका में अपने प्रतिद्वंद्वियों को काफी पीछे बनाए रखा।

खेलों के लगातार नौवें दिन भारत ने कुल 275 पदकों (160 स्वर्ण, 88 रजत और 21 कांस्य पदक) के साथ खुद को शीर्ष पर रखा। वह श्रीलंका (167 पदक : 25 स्वर्ण, 56 रजत और 85 कांस्य) से काफी आगे है। पाकिस्तान 81 पदक (नौ स्वर्ण, 27 रजत और 45 कांस्य) लेकर तीसरे स्थान पर है।

निशानेबाजों ने फिर से चमक बिखेरी और उसमें भी चैन सिंह ने फिर से बेहतरीन प्रदर्शन करके अपने सीनियर साथी गगन नारंग को लगातार तीसरी स्पर्धा में हराया। चैन सिंह ने पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन का स्वर्ण पदक जीता।

निशानेबाजी में रविवार को केवल दो स्वर्ण पदक ही दांव पर लगे थे और भारत ने उन दोनों को जीतकर अपना क्लीन स्वीप करने का अभियान जारी रखा। भारत ने पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन में टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक भी आसानी से जीता।

26 वर्षीय चैन ने 453.3 का स्कोर बनाकर स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने फिर अपने सीनियर साथी और रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके गगन नारंग को पीछे छोड़ा। नारंग ने 450.3 स्कोर बनाया और उन्हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा। श्रीलंका के एसएमएम समरकून ने कांस्य पदक जीता।

चैन ने इससे पहले 50 मीटर राइफल प्रोन और दस मीटर एयर राइफल में भी स्वर्ण पदक जीता था। कुल मिलाकर उन्होंने छह स्वर्ण पदक जीते क्योंकि जिन तीन टीम स्पर्धाओं में उन्होंने शिरकत की भारत ने उन सभी में सोने के तमगे हासिल किये।

लंदन ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता नारंग ने तीनों राइफल स्पर्धाओं में हिस्सा लिया लेकिन व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने में नाकाम रहे। भारत के चैन, नारंग और सुरेंद्र सिंह राठौड़ ने कुल 3490 के स्कोर के साथ स्वर्ण पदक जीता। श्रीलंका को रजत और बांग्लादेश को कांस्य पदक मिला।

आज के क्लीन स्वीप के बाद भारत के निशानेबाजी में 21 स्वर्ण, नौ रजत और आठ कांस्य पदक हो गए हैं। बांग्लादेश एक स्वर्ण, दो रजत और तीन कांस्य के साथ दूसरे स्थान पर है। ट्रायथलन में भारत ने स्वर्ण बटोरो अभियान जारी रखा। उसने आज मिश्रित रिले टीम प्रतियोगिता में सोने का तमगा जीता।

पल्लवी रेतिवाला, दिलीप कुमार, थोड़ा सरोजिनी देवी और धीरज सावंत की टीम ने एक घंटा 24 मिनट और 31 सेकेंड के कुल समय के साथ ट्रायथलन स्पर्धा के अंतिम दिन स्वर्ण पदक जीता। रविवार का स्वर्ण पदक दिलीप और पल्लवी का दूसरा स्वर्ण पदक है क्योंकि इससे पहले उन्होंने कल क्रमश: पुरुष और महिला व्यक्तिगत स्पर्धाओं में भी स्वर्ण पदक जीता था।

भारत ने इस तरह इस स्पर्धा के सभी तीनों स्वर्ण पदक अपने नाम किए। भारत ने इसके अलावा व्यक्तिगत वर्ग में दो रजत पदक भी जीते। गुरूदत्त ने पुरुष जबकि पूजा चौरूसी ने महिला व्यक्तिगत वर्ग में रजत पदक जीता।
मिश्रित टीम रिले में 300 मीटर तैराकी, 60 किमी साइकिलिंग और 1.2 किमी दौड़ शामिल थी। नेपाल को रजत जबकि श्रीलंका को कांस्य पदक मिला।

उधर शिलांग में भारत ने ताइक्वांडो में एक स्वर्ण, दो रजत और एक कांस्य पदक जीता। पूर्वा दीक्षित ने महिलाओं के 49 किग्रा भार वर्ग में नेपाल की वाई के चौलागेन को हराकर भारत के लिए एकमात्र स्वर्ण पदक हासिल किया।

गजेंद्र परिहार पुरुषों के 58 किग्रा फाइनल में अफगानिस्तान के महमूद हैदरी से हार गए। भारत के लिए दिन का दूसरा रजत पदक पुरुषों के 74 किग्रा भार वर्ग में मनु जॉर्ज ने जीता। वह फाइनल में अफगानिस्तान के एम शरीफ मुरादी से हार गए थे।

महिलाओं के 57 किग्रा में एस रामचैरी ने कांस्य पदक हासिल किया। मुक्केबाजी में लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता एम.सी मेरीकॉम सहित भारत के छह मुक्केबाजों ने आसान जीत दर्ज करके फाइनल में जगह बनाई।

चोट से उबरने के बाद वापसी कर रही मेरीकॉम ने सेमीफाइनल में महिलाओं के 51 किग्रा भार वर्ग में 40 सेकेंड से भी कम समय में बांग्लादेश की शमीमा अख्तर को बाहर का रास्ता दिखाया। फाइनल में उनका मुकाबला एशियाई चैंपियनशिप की विजेता श्रीलंकाई अनुशा दिलरूक्शी से होगा। अनुशा ने नेपाल की मीनू गुरूंग को हराया।

महिलाओं के 75 किग्रा में पूजा रानी भी फाइनल में पहुंच गयी हैं जहां उन्हें श्रीलंका की आंदरावीयर निलांती से भिड़ना है।

पुरुष वर्ग में एल देवेंद्रो सिंह (49 किग्रा) ने श्रीलंका के तिवाना रणसिंघे को 3-0 से हराया। विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता शिव थापा (56 किग्रा) ने बांग्लादेश के मोहम्मद ओहिदुजम्मान को उनके लंबे कद का फायदा नहीं उठाने दिया और तीनों दौर में जीत दर्ज करके फाइनल में जगह बनाई जहां उनका मुकाबला श्रीलंका के डब्ल्यू रूवान तिलिंगा से होगा।

विकास कृष्ण ने 75 किग्रा में अफगानिस्तान के फोलाद एस वाली को जबकि मनोज कुमार (64 किग्रा) ने शेरिंग वांगचुक को 3-0 के समान स्कोर से हराकर फाइनल में जगह बनाई। विकास फाइनल में पाकिस्तान के तनवीर अहमद से जबकि मनोज श्रीलंका के दिनिडु संपारमदु से भिड़ेंगे।

LEAVE A REPLY