स्नैपडील इंजीनियर दीप्ति सरना को अगवा किए जाने का कारण, योजना और मकसद का खुलासा आज हो गया। गाजियाबाद पुलिस ने इस सिलसिले में आज 5 लोगों को गिरफ्तार किया। बताया जाता है कि एकतरफा प्यार में दीप्ति का अपहरण किया गया था।

कई दिनों की पूछताछ और LIVE डेमो के बाद दीप्ति से मिली जानकारियों और सघन तफ्तीश-छापेमारी के बाद गाजियाबाद पुलिस ने इस पूरे मामले से पर्दा हटा दिया। गाजियाबाद एसएसपी धर्मेंद्र ने बताया कि सोनीपत का देवेंद्र कुमार पिछले एक साल से दीप्ति का पीछा कर रहा था। उसने पहली बार उसे राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर देखा था, तभी से उससे एकतरफा प्यार करने लगा था। देवेंद्र ने एक साल में 150 बार रेकी की थी। यहां तक की वैशाली मेट्रो से विक्रम ऑटो में बैठकर उसका घर भी देख चुका था।

एसएसपी के मुताबिक देवेंद्र हिटलर की कहानी पढ़ता था, चंगेज खान को वह हीरो मानता है और शाहरुख की फिल्म डर से वह बहुत प्रभावित था। इसी कारण उसी आधार पर लड़की का दिल जीतने के लिए उसने योजना बनाई। इसके लिए उसने चार और लोगों को अपनी योजना में शामिल किया। हालांकि उसने अपने साथियों को अपनी योजना के बारे में नहीं बताया। उसने बताया कि हम एक लड़की को उठाएंगे जो हवाला का काम करती है।

36 घंटे बाद क्यों छोड़ा
दीप्ति सरन को अपहरण के बावजूद 36 घंटे बाद छोड़ने के पीछे की वजह जो पुलिस बता रही है वह यह कि देवेंद्र चाहता था कि दीप्ति भी उससे प्यार करने लगे। वह उससे शाहरुख खान की रोमांटिक फिल्म डर की तर्ज पर प्यार करना चाहता था।

दीप्ति के लिए खरीदी थी फेवरेट चिप्स
देवेंद्र ने पुलिस को बताया कि उसने पहली बार उसे मेट्रो में देखा तभी से उसे प्यार करने लगा था। उसने उसे अगवा करने की बहुत सोची समझी तैयारी की थी। यही नहीं दीप्ति का ख्याल रखने के लिए उसका फेवरेट चिप्स भी खरीद कर रखा था।dipti-15-02-2016-1455525560_storyimage

LEAVE A REPLY