जेएनयू विवाद की गूंज शनिवार को बजट सत्र के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में भी सुनाई दी। प्रधानमंत्री मोदी के सामने विपक्ष ने यह मुद्दा उठाया। इस पर मोदी ने कहा कि वे भाजपा के नहीं, देश के प्रधानमंत्री हैं। इसलिए विपक्ष की हर चिंता को दूर किया जाएगा।

नारेबाजी पर आपत्ति : केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि अगर बजट सत्र में विपक्ष जेएनयू मुद्दे पर चर्चा चाहता है तो सरकार इसके लिए तैयार है। इसके अलावा बैठक में कई दलों ने छात्रों पर देशद्रोह के केस में कार्रवाई पर चिंता जताई। वहीं, केंद्र ने कहा कि छात्रों द्वारा की गई नारेबाजी आपत्तिजनक थी।

कांग्रेस का रुख : बैठक में राज्यसभा में विपक्ष के नता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि भाजपा नेता कांग्रेस नेतृत्व को देशद्रोहियों का समर्थक बताकर बदनाम कर रहे हैं, इसे रोका जाए। कांग्रेस ने स्पष्ट किया कि वह राष्ट्रविरोधी नारेबाजी लगाने वाले छात्रों का समर्थन नहीं करती।

सरकार ने जवाब दिया : कांग्रेस की चिंता पर नायडू ने कहा कि बोलते वक्त सभी दल संयम बरतें। हालांकि उन्होंने यह भी याद दिलाया कि विपक्ष की ओर से पीएम मोदी के संदर्भ में हिटलर जैसे शब्दों का प्रयोग किया गया था।

LEAVE A REPLY