नई दिल्ली। जेएनयू मामले को लेकर नेताओं के बयानों का दौर जारी है। इसी कड़ी में गरुवार को भाजपा नेता और वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री रहे वरिष्ठ भाजपा नेता यशवंत सिन्हा ने जेएनयू मामले पर सरकार द्वारा उठाए गए कदम को सही ठहराया है।

वहीं बाबा रामदेव ने एक बयान में कहा है कि देशहद्रोहियों से यारी देश से गद्दारी है।

उन्‍होंने कहा कि वो जेएनयू मामले पर सरकार द्वारा की गई कार्रवाई का समर्थन करते हैं। एक न्यूज एजेंसी को दिए इंटरव्यू में सिन्हा ने कहा जेएनयू या देश के किसी भी हिस्से में भारत विरोधी गतिविधियों को किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

जेएनयू मामले को लेकर कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए यशंवत सिन्हा ने कहा कि कांग्रेस इस पूरे मामले को राजनीतिक रंग देने की कोशिश कर रही है।

उन्होंने कहा कि 9 फरवरी को जेएनयू कैंपस में सभा के दौरान भारत विरोधी नारे लगाए जाना पूरी तरह गलत है और सरकार ने इस मामले पर सही कार्रवाई की लेकिन कांग्रेस ने इस मुद्दे को राजनीति रंग देना शुरू कर दिया।

सिन्हा ने कांग्रेस पर मोदी सरकार को परेशान करने का भी आरोप लगाते हुए कहा कि चाहे एफटीआइआइ मामला हो या हैदराबाद यूनिवर्सिटी का मामला हो या फिर अब जेएनयू, कांग्रेस सरकार इन मुद्दों के जरिए मोदी सरकार को परेशान करना चाहती है।

यशवंत सिन्हा ने कहा कि लोकसभा चुनावों के बाद कुछ लोग ऐसे हैं जो चाहते हैं कि मोदी सरकार स्वतंत्र होकर काम ना कर सके। इसके लिए वो समय समय पर मोदी सरकार के सामने नया विवाद लाकर खड़ा कर देते हैं।

हालांकि यशवंत सिन्हा ने पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लाहौर जाने के कदम पर असहमित जताते हुए कहा कि पीएम मोदी को लाहौर नहीं जाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि रिश्ते सुधारने की कोशिशें वाजपेयी सरकार के समय भी हुईं लेकिन उस वक्त भी पाकिस्तान की तरफ से धोखा मिला था जैसे इस बार पठानकोट हमले के रूप में मिला है।

वहीं बाबा रामदेव ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा कि देशद्रोहियों के साथ यारी भी गद्दारी ही है। रामदेव इस मामले में राहुल गांधी के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाए जाने के लिए इलाहाबाद मजिस्ट्रेट कोर्ट में दायर याचिका पर गुरुवार को प्रतिक्रिया दे रहे थे।

उन्होंने कहा कि देशद्रोह करना और देशद्रोह का समर्थन करने को कानून और आध्यात्मिक दृष्टि से अपराध माना गया है।

 

LEAVE A REPLY