शासकीय पोस्टमैट्रिक अनुसूचित जाति कन्या छात्रावास की वार्डन की गलतियां देखकर भी अधिकारी अनजान हैं।
बिलासपुर. आईजी बंगले के पास स्थित शासकीय पोस्टमैट्रिक अनुसूचित जाति कन्या छात्रावास की वार्डन की गलतियां देखकर भी अधिकारी अनजान बन रहे हैं। दुष्कर्म काशिकार हुई छात्रा पिछले कई महीनों से लगातार बिना सूचना दिए छात्रावास से गायब रहती थी। वार्डन ने इसकी सूचना न ही अधिकारियों को दी और न ही परिजनों को । 16साल की किशोरी के गायब रहने के मामले को दबाने के लिए विभाग के अधिकारी भी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। शासकीय पोस्टमैट्रिक अनुसूचित जाति कन्या छात्रावास में रहने वाली 16 साल की छात्रा का अपहरण कर जिस्म फरोशी के धंधे में लगाने कामामला सामने आने के बाद आदिवासी विकास विभाग के अधिकारी बचाव में आ गए हैं। किशोरी के छात्रावास से लगातार गायब रहने के बाद भी हॉस्टल वार्डन शारदा धृतलहरे ने अधिकारियों को भी नहीं बताया था। छात्रा नौ फरवरी को दो दिन के लिए बहन के घर जाने का हवाला देकर छात्रावास में आवेदन छोड़कर गई थी। दो दिन के बाद वह वापस नहीं आई तो वार्डन ने उसकी पूछ परख भी नहीं ली थी। उसने छात्रा के परिजनों से भी संपर्क नहीं किया और न ही इस बात से आला अधिकारियों को अवगत करायाथा। यही कारण है कि छात्रा अपहरण करने वाले छह युवक और एक युवती के चंगुल में फंसी रही ।

Attachments area

LEAVE A REPLY