गत चैंपियन यू मुंबा और पटना पाइरेट्स ने शुक्रवार को सेमीफाइनल मुकाबलों में धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए शानदार जीत दर्ज कर स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी लीग के खिताबी मुकाबले में जगह बना ली जो शनिवार को खेला जाएगा।

यहां आईजी इंडोर स्टेडियम में खेले गए सेमीफाइनल मुकाबलों में चैंपियन मुंबा ने बंगाल वॉरियर्स को 41-29 से और पटना पाइरेट्स ने पुणेरी पल्टन एको 40-21 से हराया। दोनों मुकाबलों की कहानी लगभग एक जैसी रही। दोनों विजेता टीमों ने पहले हाफ में इतनी बढ़त बना ली कि विपक्षी टीमों के लिए दूसरे हाफ में वापसी करना बहुत मुश्किल हो गया।

मुंबई ने बंगाल के खिलाफ पहले हाफ में 26-8 की बढ़त बनाई जबकि पटना ने पुणे के खिलाफ 22-5 की बढ़त बनाई। बंगाल की टीम ने मुंबई के खिलाफ दूसरे हाफ में सराहनीय संघर्ष किया और एक समय स्कोर को कम करते हुए 24-38 तक ले आए लेकिन मुंबई ने मैच पर अपनी पकड़ बनाए रखी और 41-29 से मुकाबला निपटा दिया।

मुंबई की इस जीत में रिषांक देवाडिगा ने रेड से 11 और डिफेंस से दो अंक जुटाते हुए सर्वाधिक 13 अंक बटोरे। कप्तान अनूप कुमार ने रेड से छह अंक और मंजीत छिल्लर ने डिफेंस से छह अंक बटोरे। मुंबई ने बंगाल को 18-5 के स्कोर पर ऑलआउट किया था जबकि बंगाल ने मुंबई को 23-38 के स्कोर पर ऑलआउट किया था।

बंगाल ने यदि पहले हाफ में थोड़ा बेहतर खेल दिखाया होता तो वह मुकाबले को थोड़ा नजदीकी बना सकते थे। मुंबई ने बंगाल को लीग के दोनों मैचों में पीटा था और सेमीफाइनल में भी उसे धूल चटा दी। बंगाल की तरफ से नितिन तोमर ने सर्वाधिक आठ और उमेश म्हात्रे तथा विनीत शर्मा ने छह-छह अंक अर्जित किये।

इससे पहले पटना पाइरेट्स ने जबर्दस्त प्रदर्शन करते हुए पुणेरी पल्टन को लीग के पहले सेमीफाइनल में 40-21 से धोकर फाइनल में स्थान बनाया। पटना और पुणे में जिस रोमांचक संघर्ष की उम्मीद की जा रही थी, उसे पटना के खिलाड़ियों ने पूरी तरह एकतरफा बना दिया। पटना ने आधे समय तक 25-7 की मजबूत बढ़त बना ली थी। पुणे की टीम ने हालांकि दूसरे हाफ में कुछ संघर्ष किया लेकिन पहले हाफ में अंकों का फासला इतना बड़ा हो चुका था कि पुणे की टीम पटना के आसपास भी नहीं पहुंच पायी।

पटना के रेडर और कैचर दोनों ने ही लाजवाब प्रदर्शन किया। पटना का डिफेंस इतना मजबूत था कि पुणे के रेडर उसे भेद नहीं पाये। पटना और पुणे के बीच लीग मैचों में दोनों मुकाबले टाई रहे थे। दोनों के बीच पहला मैच 30-30 के स्कोर पर और दूसरा मैच 28-28 के स्कोर पर टाई रहा था लेकिन जब सेमीफाइनल में करो या मरो के मुकाबले की बात आई तो पटना के पाइरेट्स कहीं ज्यादा बेहतर साबित हुए।

प्रदीप नरवाल ने पटना के लिए सर्वाधिक 10 अंक और रोहित कुमार ने सात अंक जुटाए। पुणे के लिए दीपक निवास हुड्डा ने छह अंक और कप्तान मनप्रीत सिंह ने पांच अंक अर्जित किये। पटना ने मुकाबले में तूफानी शुरुआत करते हुए बातों ही बातों में 14-4 की बढ़त बना ली। शुरुआत में स्कोर लगभग बराबर था लेकिन पटना ने शानदार रेड और मजबूत डिफेंस से अपनी बढ़त को लगातार बनाए रखा।

पटना ने 14-4 के स्कोर पर लोना हासिल किया और उसका स्कोर 20-4 जा पहुंचा। हाफ टाइम तक मामला 25-7 से चल रहा था। दूसरे हाफ में पुणे ने कुछ रणनीति बदली और स्कोर को धीरे-धीरे 18-27 ले आये। पुणे ने इस दौरान पटना को ऑलआउट भी किया लेकिन पटना ने 33-19 के स्कोर पर पुणे को ऑलआउट कर अपना स्कोर 37-19 पहुंचा दिया। पुणे का संघर्ष लगभग समाप्त हो चुका था और पटना ने 40-21 से बाजी मार ली।

पटना के खिलाड़ियों ने जीत के बाद एक घेरे में खड़े होकर इसका जश्न मनाया। पटना ने रेड से 18 अंक और डिफेंस और 15 अंक जुटाये जबकि पुणे की टीम रेड से 11 और डिफेंस से आठ ही अंक जुटा सकी। पटना ने छह ऑलआउट अंक और एक अतिरिक्त अंक भी अर्जित किया।

LEAVE A REPLY