वर्ष 2016 का पहला सूर्य ग्रहण 8 मार्च की रात एवं 9 मार्च की भोर में लगा। ज्योतिष की नजर में यह सूर्यग्रहण लगभग कई दशक बाद लगा है।

भारत में यह सूर्य ग्रहण आंशिक तौर पर देखा गया। वहीं, इंडोनेशिया में यह पूर्ण रूप से देखा गया है।

साल का पहला सूर्य ग्रहण: वर्षों बाद बन ऐसा योग, क्या होगा असर

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने सूर्य ग्रहण का एक वीडियो जारी किया है, जिसमें चंद्रमा सूर्य के सामने से गुजरता है।

सूर्य और पृथ्वी के बीच चंद्रमा के आने के कारण सूर्य ग्रहण लगता है, जब ये तीनों एक सीधी रेखा में आते हैं तो पृथ्वी पर अंधेरा छा जाता है।

समूचे इंडोनेशिया में पूर्ण सूर्यग्रहण
विशाल इंडोनेशियाई द्वीपसमूह के समूचे भाग पर आज पूर्ण सूर्यग्रहण देखा गया और आकाशीय नजारा देखने वालों ने जमकर इसका लुत्फ उठाया, मुस्लिमों ने दुआएं कीं और आदिवासियों ने कर्मकांड किए।

सुबह छह बजकर 19 मिनट (अंतरराष्ट्रीय समयानुसार मंगलवार रात 11 बजकर 19 मिनट) पर चंद्रमा पृथ्वी और सूरज के बीच सरकने लगा और तकरीबन एक घंटा बाद देश के पश्चिमी हिस्से में पूर्ण सूर्यग्रहण का नजारा दिखा।

इसके बाद सूर्यग्रहण के दायरे में पूर्वी मलुकू द्वीपसमूह आए और यह प्रशांत महासागर से लगे देशों में पसर गया।

एशिया और ऑस्ट्रेलिया के कुछ अन्य हिस्सों में आंशिक ग्रहण देखा गया। कुआलालंपुर में स्कूली बच्चों ने ग्रहण देखने वाला चश्मा पहनकर इस आकाशीय दश्य को देखा और सिंगापुर में भी लोग इस अद्भुत घटना को देखने के लिए घरों से बाहर निकले।

LEAVE A REPLY