सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सार्वजनिक क्षेत्र के 17 बैंकों के कंसोर्टियम द्वारा दायर याचिका पर बुधवार को सुनवाई करने पर सहमति जताई है, जिसमें उद्योगपति विजय माल्या को भारत छोड़ने से रोकने के लिए निर्देश जारी करने की मांग की गई है। लेकिन ऐसी आशंका जताई जा रही है कि माल्या पहले ही देश से बाहर जा चुके हैं।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की ओर से पेश होते हुए अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने जब इस मामले की जल्द से जल्द सुनवाई करने की अपील की तो प्रधान न्यायाधीश टी एस ठाकुर और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ ने कहा, कल सुनवाई के लिए रखा जाए।

रोहतगी ने कहा कि यह याचिका भारतीय स्टेट बैंक 17 बैंकों ने माल्या के खिलाफ दायर की है, जिनकी विभिन्न कंपनियों ने उनसे ऋण दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि इन कंपनियों पर हजारों करोड़ रुपये बकाया हैं।

संभवतः कुछ दिन पहले ही देश छोड़ चुके हैं माल्या
एक अंग्रेजी समाचार पत्र में छपी खबर के अनुसार, विजय माल्या संभवतः कुछ दिनों पहले ही देश से बाहर जा चुके हैं। उन्होंने कुछ दिनों पहले लंदन में सेटल होने की इच्छा जताई थी।

उनकी प्रवक्ता ने बताया कि उनको इस बात की जानकारी नहीं है कि माल्या कहां पर हैं। वह केवल ईमेल के जरिए बातचीत कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY