बुलेट ट्रेन परियोजना की कुछ विपक्षी सदस्यों की आलोचनाओं के बीच रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने बुधवार को कहा कि इस परियोजना की संकल्पना पूर्ववर्ती सरकार के दौरान तैयार की गई थी और वर्तमान सरकार ने इस पर जनता का धन खर्च नहीं करके जापान सरकार के सहयोग एवं वित्तपोषण से आगे बढ़ाने की पहल कर रही है।

वित्त वर्ष 2016-17 के रेल बजट पर चर्चा का जवाब देते हुए रेल मंत्री ने कहा कि बुलेट ट्रेन परियोजना की संकल्पना पूववर्ती सरकार ने की थी। हम इसे आगे बढा रहे हैं लेकिन जनता का पैसा केवल रेलवे नेटवर्क के विकास पर खर्च किया जायेगा।

उन्होंने कहा कि बुलेट ट्रेन परियोजना स्वयं वित्तपोषण (सेल्फ फाइनेंस) प्रारूप पर आधारित है। इसमें हम जापान की मदद ले रहे हैं, जिसने परियोजना की पूरी राशि देने की बात कही है जिसका भुगतान 50 वर्षो में किया जाना है। इसके तहत 85 प्रतिशत कार्य भारत में ही होंगे।

प्रभु ने कहा कि सरकार ने जापान की सरकार से आग्रह किया है कि ऐसा सहयोग केवल इस परियोजना तक ही सीमित न रहे बल्कि जापान अन्य रेल परियोजनाओं में सहयोग करे।

उन्होंने कहा कि इस तरह से न केवल रेलवे को उच्च रफ्तार प्राप्त करने में मदद मिलेगी बल्कि बेहतर प्रौद्योगिकी भी प्राप्त होगी। हम रेलवे को दुरूस्त बना रहे हैं और यह उन्हीं प्रयासों का हिस्सा है।

LEAVE A REPLY