दुनिया के बेस्ट फिनिशर कहे जाने वाले और टीम इंडिया के कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धौनी पुराने टच में नजर आने लगे हैं। इंडियन क्रिकेट फैन के लिए यह किसी वरदान से कम नहीं है। इन सब के बीच धौनी ने कुछ ऐसा कह डाला है कि भारतीय फैन्स निश्चिंत हो गए हैं कि टी-20 वर्ल्ड कप में भी धौनी ऐसे ही उन्हें जीत का तोहफा देते रहेंगे।

कैप्टन कूल ने मंगलवार को कहा कि टी-20 वर्ल्ड कप में भी फिनिशर की उनकी भूमिका जारी रहेगी। धौनी ने कहा, ‘जब मैं बल्लेबाजी करने उतरता हूं तो मुझे बहुत अच्छा लगता है और बल्लेबाजी करने का मौका मिलना भी काफी अहम होता है। अपने टीम कॉम्बिनेशन को देखते हुए, 90 फीसदी तक मेरी भूमिका वही रहती है जैसी एशिया कप के फाइनल में थी।’

माही के नाम से मशहूर धौनी ने कहा, ‘मुझे 20-25 गेंदें खेलने का मौका मिलता है और मैं खुद को प्रमोट करूं, उससे ज्यादा अहम खुद को इसके लिए तैयार करना होता है और यह मेरी भूमिका होती है। मेरी जिम्मेदारी भी है। मुझे अच्छा लगता है और मैं इसके लिए तैयार रहता हूं।’

‘टीम 2011 की लय में लेकिन अपेक्षाओं के दबाव से बचना होगा’
धौनी ने एक बार फिर दोहराया कि मेजबान टीम की आईसीसी वर्ल्ड कप के लिए तैयारियां बहुत अच्छी है और टीम टूर्नामेंट के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा ‘हमारी तैयारी और पूरी टीम इस वक्त अच्छी स्थिति में चल रही है और उसे देखते हुए हम टूर्नामेंट के लिए काफी आश्वस्त हैं।’ दुनिया की नंबर-1 टी-20 टीम और एशिया कप चैंपियन बनी टीम इंडिया को फिलहाल खिताब की भी प्रबल दावेदार मानी जा रही है। इसे लेकर धोनी ने कहा, ‘जब बात उम्मीदों की होती है तो यह वर्ष 2011 के वनडे कप की ही तरह है। लेकिन हम उम्मीदों और अपेक्षाओं पर ध्यान नहीं देते हैं क्योंकि इससे खिलाड़ी अतिरिक्त दबाव में आ जाते हैं और उनके प्रदर्शन पर इसका असर पड़ता है।’

‘दूसरे बल्लेबाजों के लिए गेम सेट करते हैं विराट’
टेस्ट कप्तान और धाकड़ बल्लेबाज विराट कोहली ने भी एशिया कप जीतने के बाद धौनी को दुनिया का बेस्ट फिनिशर बताया था। धौनी ने कहा, ‘मेरे हिसाब से फिनिशर लोअर ऑर्डर का बल्लेबाज होता है। विराट तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हैं और वह ज्यादातर दूसरे बल्लेबाजों के लिए खेल सेट करते हैं। मैच फिनिश करना लोअर ऑर्डर के बल्लेबाज पर निर्भर करता है जो पांचवे, छठे या सातवें नंबर पर उतरता है।’

‘हर किसी को अपनी जिम्मेदारी का अहसास है’
धौनी ने कहा, ‘टीम में हर खिलाड़ी अपनी भूमिका और जिम्मेदारी को बेहतर तरीके से जानता है और जब आप में अनुकूलनशीलता होती है तो उससे टीम को खास परिस्थितियों में फायदा होता है। टीम में इसका होना जरूरी होता है और हमारे पास ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने पिछले काफी समय से खुद को साबित किया है।’ एशिया कप में धौनी ने बैटिंग ऑर्डर में कुछ बदलाव किए थे और टीम टूर्नामेंट में एक मैच भी नहीं हारी थी।

‘घरेलू मैदान के अपनी अलग चुनौतियां भी होती हैं’
धौनी ने कहा कि वह फाइनल को लेकर चिंतित नहीं हैं बल्कि टूर्नामेंट में एक-एक मैच पर ध्यान केंद्रित करके खेलेंगे। खिताब की दावेदार और घरेलू जमीन पर खेलने का फायदा मिलने के सवाल पर कप्तान ने कहा कि ऐसा माना जाता है कि अपने घरेलू मैदान में परिस्थितियों का फायदा मिलता है लेकिन इसके बावजूद आपको अलग चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।

LEAVE A REPLY