धर्मशाला, 26 मार्च – इंडियन मेडिकल एसोसियेशन के हिमाचल चेप्टर द्वारा आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला हिम मेडीकोन-2016 (26-27 मार्च ) और सीएमई का शुभारंभ खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री जीएस बाली ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस कार्यशाला में आईएमए के सदस्य डॉक्टर्स के अलावा 36 के लगभग प्रदेश और प्रदेश से बाहर कार्यरत हिमाचली स्पेशिलिस्ट डॉक्टर्स भाग लेकर अपने अनुभवों और अनुसंधानों को सॉझा कर रहे है। जिनमें एम्स दिल्ली में कार्यरत डॉ विनोद पाल, डॉ डीएस राणा चंडीगढ़ से डॉ टीएस महंत, डॉ अशोक अत्री, डॉ एके सिंह, डॉ शंकर आचार्य, प्रो0 यू कॉल, प्रो0 सुब्रत आचार्य ने चर्चा में भाग लेकर अपने अनुभव बांटे।

इस अवसर पर बाली ने दिन-प्रतिदिन बढ़ती स्वास्थ्य सेवाओं का जिक्र करते हुये कहा कि आज हम इस काबिल हो पाये है कि टांडा स्थित टीएमसी में सुपर स्पेशलिसटी सेवाएं मिल सके। उन्होंने कहा कि सरकार स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर करने के लिए संकल्प है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में तीन नये मेडीकल कॉलेज चम्बा, हमीरपुर और सिरमौर जिलों में खाले जा रहे है। उन्होंने इस बात पर चिंता व्यक्त की कि काबिल फैक्ल्टी न मिलने के कारण आमजन कोे सुपर स्पेशलिटी का लाभ नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने हिमाचल से बाहर अपनी सेवाएं दे रहे हिमाचली विशेषज्ञ चिकित्सकों को प्रदेश के स्वास्थ्य संस्थानों में अपनी सेवाएं देने का आग्रह करते हुये विश्वास दिलाया कि उन्हें अब यहां भी सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध है। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि अगर किसी कारणवश विशेषज्ञ स्थाई तौर पर न आना चाहे तो विकल्प के रूप में महीने के तीन चार दिन अपनी विशेषज्ञ सेवाएं दे दें, तो भी रोगियों का भला हो सकता है तथा सुपर स्पेशलिस्टी खोलने का प्रयोजन भी सफल हो सकेगा। उन्होंने आईएमए के पदाधिकारियों से रोगियों के हित में अपने सुझाव देने का भी आग्रह किया।

दो दिवसीय कार्यशाला हिम मेडीकोन-2016 का शुभारंभ कियाः बाली
दो दिवसीय कार्यशाला हिम मेडीकोन-2016 का शुभारंभ कियाः बाली

LEAVE A REPLY