अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेतृत्व में छात्रों ने शनिवार को बिलासपुर विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार का किया घेराव ।
बिलासपुर विवि में आए दिन हो रही गड़बड़ी से नाराज छात्र लिखित आश्वासन लिया। इस दौरान रजिस्ट्रार और छात्रों में झूमाझटकी भी हुई। छात्र कुलसचिव कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। छात्रों का आक्रोशित रूप देखकर विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।शनिवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए बिलासपुर विश्वविद्यालय पहुंचे और रजिस्ट्रार का घेराव करते हुए खूब हंगामा किया। छात्र नेता दीपक अग्रवाल ने बताया कि विश्वविद्यालय में आए दिनों कुछ न कुछ गड़बड़ी हो रही है जिस ओर ध्यान आकृष्ट कराए जाने के बाद भी विवि प्रशासन किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं करता। उन्होने कहा कि एबीवीपी पहले भी विवि प्रशासन को ज्ञापन देकर इन गड़बडियों को सुधारने के लिए विवि प्रशासन से शिकायत कर चुका है लेकिन सिर्फ आश्वासन ही मिलता है किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की जाती। आज एबीवीपी फिर विश्वविद्यालय में हो रही गड़बडियों के विरुद्ध मोर्चा खोल रही है और इस बार जब तक हमें लिखित आश्वासन नहीं मिल जाता और विवि द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाता हम शांत नहीं बैठेगे। इस दौरान रजिस्ट्रार और छात्रों में झूमाझटकी भी हुई। छात्र कुलसचिव कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। छात्रों का आक्रोशित रूप देखकर विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। दीपक ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में कई विषयों में सिलेबस से बाहर से प्रश्र पूछे गए थे तो कई प्रश्र गलत थे। जिनमें बीबीए द्वितिय वर्ष में 2 प्रश्र सिलेबस से बाहर से पूछे गए थे तो बीएसई द्वितिय वर्षमें गलत प्रश्र पूछे गए थे। वहीं बीए प्रथम वर्ष की समय सारणी में अचानक किए गए बदलाव से कई छात्र परीक्षा देने से वंचित रह गए। उन्होने कहा कि पर्चा लीक कांड तो शर्मसार कर देने वाला है। और इन सब गड़बडिय़ों से छात्र-छात्राओं को मानसिक परेशानी हुई है। छात्रों ने कहा कि यह सब बीयू की लापरवाही के कारण हुए है अत: परीक्षा रद्द करते हुए इस सत्र में सभी विद्यार्थीयों को पास किए जाने की मांग की।पर्चा लीक कांड में दैनिक वेतन कर्मचारी का नाम सामने आने पर छात्रों ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन कितनी लापरवाही से कार्य कर रहा है यह बात अब छिपी नहीं है। दैनिक वेतन कर्मचारियों से महत्वपूर्ण दस्तावेजों की निगरानी करवाई जाती है।छात्रों की संख्या से अधिक प्रश्रपत्र छपवाए जा रहे है। विश्वविद्यालय प्रशासन कॉलेज से छात्रों की संख्या और प्रश्रपत्रों का कोई आंकड़ा नहीं लेता इसलिए इस प्रकार की गड़बड़ी आए दिन हो रही है। छात्रों ने विवि प्रशासन से इन सब गड़बडिय़ों को तत्काल सुधारने की मांग करते हुए लिखित में आश्वासन लिया। इस दौरान दीपक अग्रवाल, निर्णय तिवारी, सन्नी केसरी, केतन सिंह, गौरव अग्रवाल और जैकी कुमार मौजूद थे।

LEAVE A REPLY