हिमाचल प्रदेश-रोहतांग पर एनजीटी के फैसले को चुनौती देगी सरकार :
हिमाचल प्रदेश-रोहतांग पर एनजीटी के फैसले को चुनौती देगी सरकार :

राजीव,05,अप्रैल-नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के रोहतांग में वाहनों की संख्या सीमित करने और व्यावसायिक गतिविधियों पर रोक लगाने के फैसले को सरकार चुनौती देगी। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने विधानसभा में नियम – 62 के तहत लाए गए प्रस्ताव के जवाब में कहा कि सरकार ने मजबूती से एनजीटी में पक्ष रखा है।

एनजीटी में बात नहीं बनी तो सुप्रीम कोर्ट में फैसले को चुनौती दी जाएगी। जरूरत पड़ी तो सरकार देश के नामी वकीलों की मदद भी लेगी। सीएम ने कहा कि एनजीटी के फैसले से मनाली से रोहतांग के बीच लोगों का कारोबार प्रभावित हुआ है। इस पर सरकार चिंतित है। सीएम ने कहा कि एनजीटी के आदेश सख्त और जरूरत से ज्यादा हैं।

रोहतांग से आगे भी दुनिया है। रोहतांग से जम्मू कश्मीर, लेह लद्दाख और पांगी के लिए रास्ता ही नहीं जाता बल्कि चीन के लिए भी सदियों पुराना सिल्क रूट है। रोहतांग में ही नहीं बल्कि इसके आगे भी ग्लेशियर हैं। सीएम ने एनजीटी के फैसले को ओवर रिएक्शन करार दिया।

इस दौरान सीएम ने सरकार की ओर से एनजीटी में दायर हलफनामे की कॉपी सदन में रखी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करना चाहती और एनजीटी के फैसले का सम्मान भी करती है।

ये हैं एनजीटी के आदेश   एक दिन में रोहतांग के लिए सिर्फ 500 पेट्रोल वाहन जा सकते हैं। प्रति वाहन 500 रुपये शुल्क लगेगा। रोहतांग, सोलंगनाला, मढ़ी, गुलाबा और आसपास के क्षेत्रों में हर प्रकार की व्यावसायिक और 10 साहसिक खेल गतिविधियों पर रोक रहेगी। इनमें पैराग्लाइडिंग, स्नो स्कूटर, स्कीइंग, ट्यूब स्केटिंग आदि शामिल हैं।

रोहतांग में 10 हजार लोगों का उजड़ा कारोबार, घिरी सरकार :

रोहतांग में कारोबार और साहसिक गतिविधियां बंद होने से 10 हजार लोगों का कारोबार प्रभावित हुआ है। मनाली के विधायक गोविंद ठाकुर ने कहा कि सरकार ने एनजीटी के समक्ष मजबूती से प्रभावितों का पक्ष नहीं रखा। लोगों को राहत देने के लिए इसी हफ्ते सुप्रीमकोर्ट जाने की बात कही।

उन्होंने नियम 62 के तहत रोहतांग में लोगों का कारोबार चौपट होने का मामला उठाया। कहा कि घोड़ा मालिक, टैक्सी ऑपरेटर, गर्म कपड़े विक्रेता, हिमाचली वेषभूषा ड्रेस, धाटू ड्रेस आदि पर प्रतिबंध लगा है। सरकार को सहानुभूतिपूर्वक विचार कर प्रभावितों के पुनर्वास एवं मुआवजे का प्रावधान करना चाहिए। पर्यटन सीजन शुरू होने वाला है, रोहतांग में सैलानियों के लिए प्रतिबंधित 10 साहसिक खेल गतिविधियां शुरू होगी या नहीं?

सोलंगनाला में प्रस्तावित रोप-वे का उदाहरण देते हुए कहा कि इसी तरह का रोप-वे पलचान से रोहतांग के बीच भी प्रस्तावित है। इसमें रेस्तरां का प्रावधान है। रोहतांग और मढ़ी में ईको फ्रेंडली मार्केट की भी पैरवी की। जयराम ने कहा कि एनजीटी ने रोहतांग के  लिए कठोर निर्णय दिया है। महेश्वर सिंह ने रोहतांग में साफ-सफाई एनजीओ को सौंपने का सुझाव दिया।

सीएनजी के नैनो पार्टिकल से होता कैंसर   महेश्वर सिंह ने कहा कि अध्ययन से पता चला है कि सीएनजी के नैनो पार्टिकल से कैंसर होता है। ऐसे में सीएनजी बसें रोहतांग के लिए पर्यावरण मित्र नहीं कहा जा सकतीं। परिवहन मंत्री जीएस बाली ने कहा कि रोहतांग के लिए सीएनजी उपलब्ध कराना मुश्किल है। जहां तक कैंसर की बात है, लोगों के अपने-अपने विचार हैं। यह मामला एनजीटी के समक्ष रखा है।

LEAVE A REPLY