हिमाचल प्रदेश-बिलासपुर, :18 करोड़ रू. से निर्मित होने वाला पंजगाईं का पांडेश्वर राधा कृष्ण मंदिर न केवल धार्मिक आस्था का मुख्य केन्द्र होगा अपितु श्रद्धालुओं केे लिए धार्मिक पर्यटन स्थली के रूप में भी अपना महत्व कायम करेगा। यह उदगार आज प्रदेश के मुख्यमंत्री की धर्म पत्नी एवं पूर्व सांसद तथा उपाध्यक्ष राज्य स्तरीय रैड क्रास सोसायटी रानी प्रतिभा सिंह ने पंजगाई में भव्य मंदिर का शिलान्यास करने के उपरांत उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि आस्था एवं श्रद्धा का केन्द्र राधा कृष्ण पांडेश्वर मंदिर आने वाली पीढि़यों को प्राचीन इतिहास के समृद्ध दर्शन करवाएगा। उन्होनंे कहा कि पंजगाई में राधा कष्ण पांडेश्वर मंदिर निर्माण का जो महाराज स्वामी राम मोहन दास जी ने संकल्प लिया है उसे पूरा करने के लिए क्षेत्र वासियों के साथ-साथ प्रदेश सरकार द्वारा भी भरपूर योगदान दिया जाएगा।

प्रतिभा सिंह ने कहा कि मान्यता के अनुसार अज्ञातवास के दौरान पांडव यहां कुछ समय के लिए रूके थे और यही कारण है कि इस क्षेत्र का नाम पांडवों के नाम पर पंजगाई पड़ा और सभी क्षेत्रवासियों के सहयोग से यहां पर भव्य पांडेश्वर राधा कृष्ण मंदिर के निर्माण का निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि महाराज स्वामी राम मोहन दास के सहयोग से इस क्षेत्र में भव्य मंदिर के निर्माण की शुरूआत हुई है और आशा ही नहीं बल्कि पूर्ण विश्वास है कि यह मंदिर जल्दी बनकर तैयार होगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान दौर में हमारी संस्कृति दिन प्रतिदिन बदलती जा रही है और बदलते परिवेश में हमें अपने धर्म व आस्था को नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस शिलान्यास महोत्सव में प्रदेश के मुख्यमंत्री के आने का कार्यक्रम था लेकिन अति व्यस्तताओं के कारण वे नहीं आ सके। उन्होंने कहा कि पंजगाई गांव के इतिहास को देखते हुए क्षेत्रवासियों के अतिरिक्त अन्य दानी सज्जनों को भी इस मंदिर के निर्माण के लिए योगदान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस मंदिर के बनने से यह मंदिर प्रदेश के अन्य भव्य व बड़े मंदिरों की श्रेणी में शुमार हो जाएगा।

विकास की उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने गत तीन वर्षो में समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की है तथा वर्तमान वित वर्ष में सामाजिक क्षेत्र में अधिकतम बजट का प्रावधान निर्धन व कमजोर वर्ग के उत्थान के लिए किया गया है। उन्होंने कहा कि एक समय था जब लोग सड़क, पेयजल तथा बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित थे लेकिन आज सभी ग्रामीण क्षेत्रों में हर प्रकार की सुविधाएं लोगों को मुहैया करवाई गईं हैं जिसका श्रेय प्रदेश की वर्तमान कांग्रेस सरकार को जाता है । उन्होंने कहा कि बच्चे देश के कर्णधार हैं तथा इन्हें सुशिक्षित करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा गांव के एक बच्चे के लिए भी स्कूल खोला जा रहा है जो सरकार की शिक्षा के प्रति सकारात्मक व उदारवादी सोच को परिलक्षित करता है ।

इस अवसर पर राज्य योजना विकास एवं बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के अध्यक्ष रामलाल ठाकुर, मुख्य ससंदीय सचिव (वन) राजेश धर्माणी तथा सदर विधायक बम्बर ठाकुर ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किए।

 

राम लाल ठाकुर ने अपने सम्बोधन में कहा कि प्रदेश में संतों व महात्माओं ने तपस्या करके प्रदेश को देव स्थली बनाया है और यहां के लोगों को शिक्षित कर संस्कारवान बनाया है। इसी प्रकार मुख्य संसदीय सचिव राजेश धर्माणी ने कहा कि धर्म व अधर्म, न्याय व अन्याय तथा सच व झूठ में अन्तर समझना ही हमारी धार्मिक आस्था का प्रतीक है।

 

सदर विधायक बम्बर ठाकुर ने विकास का उल्लेख करते हुए कहा कि पंजगांई क्षेत्र के विकास के लिए उन्होंने भरसक प्रयास किए हैं तथा धौंनकोठी में पेयजल की कमी को दूर करने के लिए 70 लाख रूपए व्यय किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पंजगाई अस्पताल में खाली पड़े पैरा मैडीकल स्टाफ के पदों को भरा गया है तथा पंजगाई गांव में सिंचाई योजना को विधायक प्राथमिकता में डाल कर उसकी डीपीआर तैयार की जा रही है। उन्होंने बैरी-बरमाणा तथा धौंनकोठी गांव के लोगों को क्षेत्र के विकास के लिए आगे आने को कहा ताकि इन गांवों में लोगों को सिंचाईं की सुविधा प्रदान करने के लिए योजनाओं का प्रारूप तैयार किया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त कुनणूं गांव के लिए 1 लाख 88 हजार रूपए सम्पर्क सड़क पर व्यय किए जा चुके हैं।

इस अवसर पर स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। मुख्यातिथि द्वारा स्कूलों में सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए पांच हजार रूपए देने की भी घोषणा की।

इस भव्य मंदिर के निर्माण के लिए दानी सज्जनों में बलोह के डा0 चेत राम ने 1 लाख 51 हजार, पंजगाई के मास्टर बाबू राम गौतम ने 2 लाख 10 हजार रूपए, लीला गौतम ने 1 लाख 51 हजार, शमशेर गौतम ने 2 लाख 20 हजार, परमानंद भारद्धाज नंे 1 लाख 11 हजार, रोपा के ओम प्रकाश ने 56 हजार, गाहर के सुख राम ने  51 हजार, बैरी की शीला महाजन ने 51 हजार, बैहनां जटटां के लेख राम ने 2 लाख 11 हजार तथा भोज बाजार सुंदरनगर की शारदा देवी ने 1 लाख रूपए मंदिर निर्माएा के लिए दान स्वरूप दिए।

इस अवसर पर प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष विक्रमादित्य सिंह, अध्यक्ष हि0 प्र0 स्कूल शिक्षा बोर्ड बलवीर टेकटा, जिला परिषद अध्यक्ष अमरजीत सिंह बग्गा, जिला परिषद सदस्य सावित्री गौतम, बीडीसी मैम्बर सुरजीत सिंह, जिला मार्किटिंग कमेटी के अध्यक्ष विवके कुमार पूर्व विधायक बाबू राम गौतम व तिलक राज शर्मा, सदस्य हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड एवं ब्राहमण कल्याण सभा पंडित सीता राम शास्त्री , एसीसी जीएम कपूर, भावना ठाकुर, उपाध्यक्ष राज्य अराजपत्रित कर्मचारी संघ व अध्यक्ष हि.प्र. नर्सिंग एसोसियेशन, स्थानीय ग्राम पंचायत के प्रधान सुशील कुमार, उप प्रधान अनु राज गौतम, धौंनकोठी पंचायत के प्रधान सुरेन्द्र पाल, उप प्रधान शंकर सिंह के अतिरिक्त आसपास की पंचायतों के प्रतिनिधि तथा अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे।

 

LEAVE A REPLY