DSCN3127 13087388_905106212931902_6159445415187173737_n

– एक दलित बच्ची के झुलसने हुई मौत

– आग पर काबू पाने में बिफल रहा जिले का अग्निशमन विभाग

– आपदा. गोपालगंज में पछुआ हवा के बीच बरपा आग का कहर

– पीड़ित परिवारों को अभी तक नही मिला सरकारी सहयता

गोपालगंज : रविवार को पछुआ हवा के बीच आग ने जिले में कहर बरपा दिया. विभिन्न गांवों में लगी आग से 160 घर जल कर राख हो गये, तो इस आग में एक किशोरी समेत दो दर्जन से अधिक पशुओं के अलावा पांच लाख रुपये नकद एवं पांच करोड़ की अधिक की संपत्ति भी जलने की खबर है. आग पर काबू पाने में दमकल का दम निकल गया. पछुआ हवा और तेज आग की लपट के आगे किसी की न चली. रविवार की दोपहर हथुआ प्रखंड की कुसौंधी पंचायत के खुशियाल छापर टोला भेड़िया गांव में चूल्हे की चिनगारी से लगी भीषण आग में दो दर्जन आवासीय झोपड़ियां जल कर राख हो गयीं. वहीं, एक किशोरी की आग में बुरी तरह झुलस जाने से मौत हो गयी.  किशोरी बीरबल राम की 15 वर्षीया पुत्री खुशबू कुमारी बतायी गयी है. इसके अलावा आग लगने से एक गाय, चार बकरियों सहित लाखों की संपत्ति भी जल कर राख हो गयी. कमलेश चौधरी, उसमान मियां, इशहाक मियां, अक्षेलाल राम, जीतन चौधरी, लुटावन, रामाशंकर चौधरी, विजय कुमार राम, साधु चौधरी, राजेश चौधरी, हरिशंकर चौधरी सहित दो दर्जन के आशियाने उजड़ गये.

बताया जाता है कि दलित टोले के छोटेलाल राम के घर से खाना बनाते समय चिनगारी से आग भड़क उठी. देखते-ही-देखते आग ने पूरे टोले को अपनी चपेट में ले लिया. तेज हवाओं के बीच आग की लपट तेज होती गयी,  जिये बुझाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी. वहीं, दूसरी तरह पंचदेवरी प्रखंड के बातल चोरहा में 60 घर जल कर राख हो गये.  भोरे प्रखंड के गोराहटिया गांव में महेश बैठा के घर मीट बनाने के दौरान लगी आग से 10 घर जल कर राख हो गये. इसी तरह शहर के हरखुआ में अचानक लगी आग से रतन महतो, मुन्नी महतो, राधा महतो समेत आठ घर जल गये, तो फुलवरिया प्रखंड के श्रीनगर गांव में पटाखा व्यवसायी के यहां खाना बनाने के दौरान लगी आग से एक बछड़ा समेत पूरा घर जल कर राख हो गया, जबकि बिजली के तार टूटने से खैरटिया, मोतिपुर, नेरूइ में 10  घर जल गये. बैकुंठपुर प्रखंड के बनकटी गांव में चार, खजुहटी में आठ घर जल गये. अग्निकांड में पांच करोड़ से अधिक की संपत्ति जलने की सूचना है.

 पछुआ हवा ने भी बरपाया अपना  कहर

गोपालगंज : चढ़ते पारा के साथ पछुआ हवा के कहर से रविवार को बदन झूलसते रहे. 31 किलोमीटर की रफ्तार से पछुआ हवा चली. गरम हवा के कारण सड़कों पर कर्फ्यू जैसा माहौल देखा गया. स्थिति यह थी कि दिन के 9 बजे से शाम 4 बजे तक हाइवे से लेकर अन्य सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा. आवश्यक काम के बाद भी लोगों ने घरों से निकलने से परहेज किया.

 

अधिकतम तापमान 41.9 तथा न्यूनतम तापमान 26.6 दर्ज किया गया. मौसम वैज्ञानिक एसएन पांडेय  की मानेंं, तो पारा में जिस तरह उतार-चढ़ाव हो रहाहै,  पारा एक बार जो चढ़ा तो फिर उतरने का नाम नहीं ले रहा है. एक दिन कम होता है, तो फिर दूसरे दिन चढ़ जाता है.

माॅनसून को जगा सकती है पछिया : मौसम का करवट आनेवाले कल का एहसास करा रही है. उससे बादल कभी दस्तक दे सकते हैं. अप्रैल की शुरुआत से ही गरमी का प्रकोप शुरू हो गया था.  मौसम वैज्ञानिक डॉ एसएन पांडेय  ने बताया कि पछुयाआ से बंगाल की खाड़ी में सो रहा पूर्व मॉनसून कभी भी जग सकता है. पछुआ लगातार उसे ठोकर मारकर जगाने की कोशिश कर रही है. उसके जगते ही पूर्व माॅनसून यहां आ धमकेगा.

लू लगने से सात लोग पहुंचे अस्पताल : सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में लू  लगने से रविवार को सात लोग पहुंचे, जिनका इलाज डॉक्टरों ने किया. इनमें एक मरीज रमावती देवी को भरती कराना पड़ा. अन्य को दवा देकर धूप से बचने की सलाह डॉक्टरों ने दी.

 

 

 

रविवार को जिले में अगलगी की कई घटनाओं में सैकड़ों घर जल गये. जिले में अगलगी की घटनाओं का सिलसिला लगातार जारी है.  ऐसे में सैकड़ों लोग पुन: बेघर हो गये. कई लोग दाने-दाने को मुहताज हो गये. आग से पेड़ों के जलने की भी सूचना है. वहीं, अगलगी की घटनाओं में लाखों की संपत्ति खाक हो गयी. अब पीड़ित लोग सहायता की बाट जोह रहे हैं.

 

सीवान : आग की विभीषिका ने रविवार को सैकड़ों परिवारों को तबाह कर दिया. कई परिवारों का आग में अनाज समेत सारा सामान जल कर खाक हो गया. पछिया हवा व आग बरसाते मौसम में भी ये परिवार खुले आसमान के नीचे रहने को विवश हैं. इस दौरान विभिन्न क्षेत्रों में महिला व तीन बच्चे गंभीर रूप से झुलस गये. उनका विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है.

 

 

LEAVE A REPLY