(शैलेश कुमार पाण्डेय )

दिल्ली में लालू यादव और बाबा रामदेव की मुलाकात के बाद राजनीतिक हलकों में बयानबाजी शुरू हो गई. पढ़िए दो दिग्गजों की मुलाकात के बाद किसने क्या कहा…

 

तेजस्वी यादव, डिप्टी सीएम और राजद नेता

बाबा रामदेव ने लालू यादव से मिलने की इच्छा जाहिर की थी. लालू यादव का दरवाजा सभी के लिए हमेशा खुला रहता है. बाबा रामदेव अपने प्रॉडक्ट के जरिये विदेशी प्रोडक्ट को टक्कर दे रहे हैं. काला धन मामले में बाबा रामदेव अपना आंदोलन और तेज करें.

 

नंदकिशोर यादव, भाजपा नेता

लालू यादव पर उम्र का असर पड़ने लगा है. लालू यादव को देर से चीजें समझ में आती हैं. बाबा रामदेव से मिलने पर लालू के विचार बदल गए. राजनीति में भी लालू यादव के विचार जल्द बदलेंगे. जल्द ही लालू यादव को अपने पुराने कामों पर अफसोस होगा.

 

श्याम रजक, जदयू नेता

बाबा रामदेव और लालू यादव के मुलाकत पर जदयू नेता श्याम रजक ने कहा कि बाबा रामदेव का एक पक्ष योग का है और उसका समर्थन हर कोई करता है, लेकिन दूसरा पक्ष यह है कि बाबा रामदेव का दलित विरोधी हैं. मैं बाबा रामदेव का जीवन के अंतिम क्षण तक विरोध करूंगा.

 

संजय सिंह, प्रवक्ता, जदयू

पीएम मोदी के एजेंट बाबा रामदेव से लालू यादव की मुलाकात नहीं हुई. लालू यादव विश्व प्रसिद्ध योग गुरु बाबा रामदेव से मिले हैं. बाबा रामदेव से योग सिखने के लिए लालू यादव मिले और दोनों के बीच मुलाकात का राजनीतिक मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए.

 

जब्बार आलाम, राज्य सचिव मंडल के सदस्य, सीपीआई

बाबा रामदेव और लालू प्रसाद की सियासी मुलाकात है. बाबा योगगुरु के साथ साथ व्यापारी और आध्यात्मिक नेता हैं लेकिन लालू प्रसाद विशुद्ध रूप से राजनेता हैं. बिहार में महागठबंधन की सरकार हैं. तीनो दलों की गठबंधन की सरकार सियासी मजबूरी है. तीनों पार्टियो के अपने अपने स्वार्थ हैं.

baba-lalu-meet-630x413

LEAVE A REPLY