पटना। राजधानी पटना के राजेंद्र नगर टर्मिनल के साथ पूरे बिहार भर में दर्जनों ट्रेन को कई संघठनों के कार्यकर्ताओं ने रोक लिया। रेल परिचालन रोके जाने के बाद यात्रियों को घंटों परेशानी का सामना करना पड़ा। आपको बता दें कि जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाने वाले तमाम छात्रों पर लगाए गए जुर्माना और निलंबन का मामला अब देशव्यापी आंदोलन का रूप लेने लगा है। शनिवार को आरा में आइसा के नेताओं ने जेएनयू मामले को आंदोलन का रूप देते हुए आरा के रेलवे स्टेशन पर उधान आभा तूफ़ान एक्सप्रेस को घंटो रोके रखा और डाउन लाइन को पूरी तरह से बाधित रखा। वहीं इन नेताओं ने भारत सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की और जल्द से जल्द तमाम छात्रों के ऊपर लगाए गए जुर्माना और निलंबन के वापसी की मांग करते दिखे। आइसा ने एलान किया है की अगर इनकी मांगे पूरी नहीं की गई तो ये आंदोलन पूरे देश में चलाया जाएगा। आइसा कार्यकर्ता ने केंद्र सरकार पर पिछड़ी जाति पर निशाना बना कर रेस्टीगेट करने का आरोप लगाया है।
वहीं दरभंगा में भी आइसा, इनौस, एआइएसएफ समेत कई वामपंथी संगठनों से जुड़े छात्रों ने दरभंगा रेलवे स्टेशन पर दरभंगा-नई दिल्ली बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस को रोका। उन्होंने स्टेशन पर रेल ट्रैक जाम कर प्रदर्शन किया। छात्रों ने केंद्र सरकार और जेएनयू प्रशासन के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी की। वे जेएनएयू में अनशन कर रहे छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया समेत अन्य छात्रों के समर्थन में आंदोलन कर रहे थे।

 

LEAVE A REPLY