. शिक्षक बनने का सपना सजाए लोगो का इंतजार अब बहुत जल्दी खत्म होने वाला है , बिहार सरकार टेट पास अभ्यर्थियों को अंतिम मौका देने जा रही है. पंचायत चुनाव के बाद सरकार खाली पड़े 93 हजार शिक्षकों के पदों के लिए नियोजन शिविर का आयोजन करेगी. विधानसभा चुनाव से पहले शिक्षकों के नियोजन का कैंप आयोजित किया गया था. विभाग की ओर से तब कहा गया था कि दिसंबर 2011- जनवरी 2012 में आयोजित टेट के रिजल्ट के आधार पर शिक्षक नियोजन कैंप का आयोजन किया जाएगा. यह पूर्व में आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा के आधार पर आखिरी कैंप होगा. इसके जरिए राज्य के रिक्त शिक्षकों के 93 हजार पदों को भरने का प्रयास किया जाएगा. शिक्षा मंत्री डॉ अशोक चौधरी ने कहा कि जून के पहले सप्ताह तक चुनाव के रिजल्ट प्रकाशन की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी. इसके बाद खाली पदों को भरने के िलए पंचायत,प्रखंड, जिला परिषद और नगर नियोजन इकाइयों के आधार पर नियोजन कैंप का आयोजन किया जाएगा. कैंप में जितने भी अभ्यर्थियों का चयन होता है, उसके बाद किसी अभ्यर्थी को मौका नहीं दिया जाएग. उन्हें दोबारा चयन प्रक्रिया में जाना पड़ेगा. वर्ष 2011-12 में बिहार बोर्ड की ओर से आयोजित कराई गई शिक्षक पात्रता परीक्षा में करीब 25 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे. इसमें से 1.47 लाख अभ्यर्थीयों को सफल घोषित किया गया था. मंत्री के अनुसार सरकार दो टेस्ट के आयोजन पर विचार कर रही है. इसके लिए कार्यक्रम का निर्धारण किया जा रहा है. माध्यमिक स्कूलों में गणित और विज्ञान के लिए अलग से विशेष टेट का आयोजन किया जाएगा. बिहार बोर्ड को पहले इस टेस्ट के आयोजन कराने का निर्देश दिया गया है. इसके बाद सामान्य टेट का आयोजन किया जाएगा. विशेष टेट का आयोजन सरकार जुलाई से पहले कराने की कोशिश कर रही है.

 

images

LEAVE A REPLY