उतराखंड : प्राकृतिक ने एक बार फिर उतराखंड में अपना कहर बरपाया है , बादल फटने से भारी बारिश और ओलावृष्टि ने उत्तराखंड के जौनसार बावर क्षेत्र में भारी तबाही मचाई है. ओलावृष्टि की चपेट में आकर यहां एक व्यक्ति की मौत हो गई. साथ ही अलग-अलग इलाकों में 138 बकरियों और तीन गायों के मारे जाने की खबर है. कई इलाकों में उफनाए गदेरों से खेतों में मलबा जा घुसा है. जिससे खेतों में लगी टमाटर और आलू की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है. खास तौर पर आलू की फसल बर्बाद हुई है. चकराता-लाखामंडल मार्ग पर पहाड़ी दरकने से दांवापुल के पास मोटर मार्ग बंद हो गया, जिससे दो दर्जन से अधिक गांवों का चकराता से संपर्क कट गया. दरअसल, मंगलवार देर शाम अचानक बादल फटने से क्षेत्र में तेज मूसलाधार बारिश शुरू हई. ऊंचाई वाले क्षेत्रों में जमकर ओलवृष्टि हुई, करीब दो घंटे तक हुई ओलावृष्टि और बारिश से गदेरे उफान पर आ गए. जिससे गदेरे का मलबा सीधे खेतों में जा घुसा.सावड़ा खड्ड के उफनाने से कई बीघा कृषि योग्य भूमि के साथ पेयजल लाइन बह गई. जिससे सावड़ा बाजार में पेयजल आपूर्ति ठप हो गई.

भारी बारिश के बीच कंधाड़ गदेरे के उफनाने से टिकम सिंह, तिलक सिंह, भगत सिह सहित पशुपालकों की बकरियों की मौत हो गई. इसी तरह चिल्हाड़ गांव में चार बकरी, जाड़ी गांव में बीस, डुगंरी में तीन बकरियों से क्षेत्र के अलग-अलग गांव में करीब 138 बकरियों की ओलवृष्टि के कारण मौत हो गई. एसडीएम प्रेमलाल नुकसान की स्थिति साफ नहीं है, बुधवार तक ही स्थिति साफ हो सकेगी.

images

LEAVE A REPLY