14 को होगा ‘‘फ्यूजन’’ कार्यक्रम:  रितेश चौहान

धर्मशाला 11 मई: कांगड़ा ज़िला प्रशासन की पहल के तहत पर्यटकों को लुभाने और स्थानीय लोगों, विशेषकर युवाओं को समृद्ध सैन्य, हिमाचली एवं तिब्बती मूल्यों, परम्पराआंे और संस्कृतियों से रू-ब-रू करवाने के उद्देश्य से 14 मई कोे मैक्लोडगंज में सायं 4 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘‘फ्यूजन’’ का आयोजन किया जाएगा। इससे पर्यटकांे एवं स्थानीय लोगों को भारतीय सेना, हिमाचल प्रदेश एवं यहां रहने वाले तिब्बती समुदाय की संस्कृतियों को जानने का अवसर मिलेगा। इस कार्यक्रम में ज़िला लोक सम्पर्क विभाग एवं टिपा (टिब्बैटन इंस्टीट्यूट ऑव परफार्मिंग आर्ट) के कलाकारों के अतिरिक्त सेना के जवान और बैंड भाग लेंगे।
      जिलाधीश रितेश चौहान ने बताया कि इस योजना के तहत पहला कार्यक्रम मई माह के दूसरे शनिवार अर्थात् 14 मई को सायं 4 बजे से 6.30 बजे तक मैक्लोड़गंज के दलाई लामा मंदिर के समीप नगर निगम के नवनिर्मित पार्किंग परिसर में आयोजित किया जाएगा। 
      उन्होंने कहा कि ये कार्यक्रम नियमित रूप से निर्धारित अंतराल के बाद आयोजित किए जाते रहेंगे और इसमें पर्यटकों एवं स्थानीय लोगों को तीनों संस्कृतियों का अद्भुत समन्वय देखने को मिलेगा। लोगों को हिमाचल प्रदेश एवं तिब्बत समुदाय के परिधानों और लोक संस्कृति को जानने के अतिरिक्त सेना की सांस्कृतिक गतिविधियों को जानने का अवसर प्राप्त होगा। 
      उपायुक्त ने बताया कि इस कार्यक्रम में टिपा अर्थात तिब्ब्त कला निष्पादन संस्थान की ओर से सिंह नृत्य और तिब्बती साजों पर आधारित सांगीतिक प्रस्तुति, सेना की ओर से भांगड़ा और गतका तथा सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के कलाकारों द्वारा कांगड़ा ज़िला का प्रसिद्ध नृत्य झमाकड़ा और लोकगीतों पर आधारित शहनाई वादन प्रस्तुत किया जाएगा

LEAVE A REPLY