पटना। बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने दिल्ली में रेल मंत्री सुरेश प्रभु से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने बिहार रेलवे की लंबित परियोजनाओं पर बात की। तेजस्वी ने रेलमंत्री से पटना-दीघा रेललाइन की जमीन भी मांगी। इस पर रेलमंत्री ने उन्हें भरोसा दिया है। गौरतलब है कि पटना शहर के बीचो बीच पटना रेलवे स्टेशन से दीघा घाट तक एक रेल लाइन है। इस लाइन से अंग्रेजों के जामने में माल की ढुलाई होती थी। उसके बाद से यह रेल लाइन बंद था। जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री बने तो इस लाइन पर फिर से पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन शुरू हुआ। उम्मीद के मुताबिक पैसेंजर नहीं मिले। हालांकि रेलवे ने परिचालन बंद नहीं किया।  राज्य सरकार शहर पर ट्रैफिक की बोझ कम करने के लिए लगातार रेलवे से यह जमीन मांगती रही है। सरकार इस पर सड़क बनाना चाहती है ताकि दानापुर  व दीघा की ओर जाने वाले लोग सीधा वहां पहुंच जाए। इससे शहर में ट्रैफिक पर बोझ कम होगी। इसे लेकर सीएम नीतीश ने भी कई बार रेल मंत्री के सामने यह प्रस्ताव रखा था। उप मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद रेल मंत्री ने सेद्धांतिक रूप से सहमति जता दी है। उन्होंने कहा है कि इसके बदले में रेलवे के प्रोजेक्ट के लिए दूसरी जगह जमीन उपलब्ध करवाई जाए। उस पर डीप्टी सीएम ने हामी भर दी है। जल्द ही रेलवे के अधिकारियों के साथ राज्य सरकार की बैठक होगी व इस पर अंतिम फैसला लिया जाएगा। रेलवे की यह जमीन कुल 71 एकड़ है। इसके बदले में राज्य सरकार भी इतना ही जमीन देगी।
वहीं, तेजस्वी यादव ने कुल बिहार में आठ लंबित परियोजनाओं के ऊपर रेल मंत्री का ध्यान आकृष्ठ करवाया। जिस पर उन्होंने मदद का भरोसा दिया है।  साथ ही भागलपुर और गोपालगंज (थावे) में पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव द्वारा स्वीकृत divisional कार्यालय को यथाशीघ्र शुरू करवाने का अनुरोध किया।

201605121315065632_tejashwi-yadav-meet-rail-minister-suresh-parbhu-in-delhi_SECVPF

LEAVE A REPLY