उपायुक्त ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ पर ली मैराथन मीटिंग 
हर अधिकारी के मोबाईल पर बजेगी ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ की कॉलर ट्यून 

धर्मशाला, 16 मई – उपायुक्त कांगड़ा रितेश चौहान ने कहा कि कांगड़ा जिले के प्रत्येक स्कूल में हर महीने की 25 तारीख को बेटियों के सम्मान में विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रमों के दौरान स्कूल में पढ़ने वाली जिन बच्चियों का जन्मदिन उस महीने में होगा, उनका जन्मदिन सामुहिक तौर पर 25 तारीख को स्कूल में धूमधाम से मनाया जाएगा, जिसमें बच्चियों के माता-पिता को भी विशेष तौर पर आमंत्रित किया जाएगा। 
     उन्होंने कहा कि एक बच्ची के जन्म के उपरांत परिवार नियोजन अपनाने वाले अभिभावकों को उपायुक्त की ओर से प्रशस्ति पत्र दिए जाएंगे। 
    उपायुक्त रितेश चौहान आज यहां जिले में ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ अभियान के अंतर्गत विभिन्न विभागों द्वारा चलाई गई गतिविधियों की प्रगति की समीक्षा तथा सभी विभागों के लिए तैयार कार्ययोजना पर चर्चा के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। लगभग 3 घंटे चली इस मैराथन मीटिंग में उपायुक्त ने योजना के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए उठाए गए कदमों का जायजा लिया तथा सभी संबंधित विभागों को योजना को और प्रभावी तरीके से लागू करने संबंधी जरूरी दिशा-निर्देश दिए।
     चौहान ने कहा कि ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ के संदंश के व्यापक प्रसार के लिए विभिन्न विभागों की जनोपयोग दस्तावेजों पर ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ से संबंधित स्लोगन लिखे जाएंगे। इस संदर्भ में उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दवाई की पर्चियों और बैंक के अधिकारियों को बैंकों की डिपॉजिट पर्चियों पर ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ का स्लोगन लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शिक्षा बोर्ड द्वारा उपलब्ध करवाई जाने वाली स्कूली किताबों के पिछले कवर पर ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ से संबंधित संदेश छापने के लिए बोर्ड के उच्चाधिकारियों को पत्र लिखकर आग्रह किया जाएगा। 
     उन्होंने कहा कि इस संदेश के व्यापक प्रसार के लिए डाक विभाग में कार्यरत डाकियों को अपनी ड्रैस पर लगाने के लिए ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ स्लोगन वाले बैज दिए जाएंगे। 
     उन्होंने कहा कि मोबाईल नेटवर्क कंपनी एयरटेल और बीएसएनएल की सहायता से ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ पर कॉलर ट्यून बनाई जाएगी, जो जिले के हर अधिकारी के मोबाईल की कॉलर ट्यून होगी। 
    उपायुक्त ने जिला सांख्यिकी विभाग के अधिकारियों को इस योजना से संबंधी सभी विभागों की गतिविधियों की मासिक प्रगति की निगरानी के लिए ‘एकल निगरानी तंत्र’ विकसित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वे स्वयं हर महीने इस योजना की प्रगति का जायजा लेंगे। 
     उपायुक्त ने बैठक में स्वास्थ्य, महिला एवं बाल कल्याण, शिक्षा, सूचना एवं जन सम्पर्क, रेडक्रास सहित अन्य संबंधित विभागों और गैर सरकारी संगठनों द्वारा इस योजना के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए उठाए गए कदमों का जायजा लिया। उन्होंने विभिन्न विभागों को योजना को और प्रभावी तरीके से लागू करने संबंधी जरूरी दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने सभी विभागों को सोशल मीडिया सहित जन संचार के विभिन्न माध्यमों से जनजागरूकता बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी विभागों को अपने-अपने स्तर पर जागरूकता शिविर आयोजित करने के निर्देश भी दिए। 
     उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को प्रत्येक स्कूल में गुड्डा-गुड्डी बोर्ड लगाकर लिंगानुपात की दृष्टि से प्रत्येक कक्षा की वार्षिक दाखिला संख्या प्रदर्शित करने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रत्येक स्कूल में आयोजित होने वाली सुबह की प्रार्थना में सप्ताह में दो बार ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ पर आधारित शपथ दिलवाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को इस थीम के साथ बच्चों के लिए विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं आयोजित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक स्कूल में विद्यार्थियों को ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ पर शपथ पत्र दिए जाएंगे, जिन्हें वे अपने माता-पिता से हस्ताक्षरित करवा कर पुनः स्कूल में सौंपेंगे।  
     उन्होंने जिला खेल विभाग के अधिकारियों को हर महीने की 15 तारीख को युवक मंडलों के सहयोग से ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ थीम के साथ विशेष गतिविधियां आयोजित करने के निर्देश दिए। 
     उपायुक्त ने कहा कि जिले के सभी कॉलेजों, स्कूलों, पंचायतों एवं अन्य विभागों के लिए अलग-अलग प्रकार की विशेष प्रचार सामग्री डिजाईन की जाएगी, जिसका जिम्मा यस बैंक ने लिया है।  
      उन्होंने कहा कि जिले के सर्वाधिक लिंगानुपात असंतुलन वाले क्षेत्रों में कारणों का सही-सही पता लगाने के लिए सांख्यिकी विभाग की सहायता से विशेष सर्वेक्षण करवाया जाएगा। 
     चौहान ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जिले में अल्ट्रासाउंड मशीनों की ट्रेकिंग प्रणाली लागू करने की दिशा में शीघ्र कदम उठाने के निर्देश दिए।     उन्होंने जिले में पीसी एंड पीएनडीटी अधिनियम सहित अन्य सभी कानूनी प्रावधानों के प्रभावी कार्यान्वयन एवं लोगों की सक्रिय भागीदारी से अभियान को सफलतापूर्वक क्रियान्वित किए जाने पर बल दिया जा रहा है।
    इस अवसर पर विभिन्न विभागों के अधिकारी और गैर सरकारी संगठनों के सदस्य उपस्थित थे। 

LEAVE A REPLY